Romantic Love Sms in Hindi For Girlfriend

अधूरी है हर आयत मेरी तेरे ज़िक्र के बिना......
मेरे हर लफ़्ज़ मेरी हर दुआ की जैसे रूह तुम हो.......

 ********************************

 "ना इश्क चाहते हैं
ना अश्क चाहते हैं
हम तो बस तुम्हारे लिए
खुशियों वाला वो शख्स चाहते हैं "

  ********************************

 दो आईने को देखकर देखा किया तुझे
तेरी आंखों में डूबकर देखा किया तुझे
सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह
खामोशियों से बोलकर देखा किया तुझे
लहरें तो आके रूक गईं साहिल को चूमकर
आंसू पलक में रोककर देखा किया तुझे
तेरी उदासियों में तस्वीर है मेरी
ये सोचके बस एकटक देखा किया तुझे

  ********************************

 ऐ ज़िँदगी, अब तू ही रुठ जा मुझसे..
ये रुठे हुए लोग, मुझसे मनाए नहीँ जाते…

  ********************************

 एक सुकून की तलाश मे जाने
कितनी बेचैनियां पाल ली,
और लोग कहते है हम बडे हो
गए हमने जिंदगी संभाल ली.

  ********************************
 मेरी आवारगी में कुछ दखल तुम्हारा भी है
क्यों की जब तेरी याद आती है
तो घर अच्छा नही लगता


 चल अब मेरी साँस की
जमानत रखा ले तू
शायद इस तहर में बन
जाऊ तेरे एतबार के काबिल

 ********************************

सच कहू तो में आज भी इस सोच में गुम हू !!!!
में तुम्हे जीत तो सकता था जाने हरा क्यों ? 

  ********************************

 लफज़ , अल्फाहाज , कागज़ ,
किताब कहाँ कहाँ रखे
हम तुम्हारी यादों का हिसाब 

 ********************************
 सुनो मुझे एक ऐसा शख्स चाहिए,
जो डरता हो मुझे खोने से 

  ********************************
 जो आपकी ख़ुशी छीन ले उसके
पीछे रोने का कोई फायदा नहीं 

  ********************************

 मुझे भी पता है तुम मेरे नहीं हो ,
इस बात का बार बार एहसास मत दिलवाया करो 

  ********************************

 मोहब्बत करने वाले ना जीते है ना ही मरते है,
फूलों की चाह में वो काँटों पर से गुजरते है  

  ********************************

 दिल चाहता है आज रो लूँ मैं जी भर के,
ना जाने किस-किस बात पर उदास हूँ…..

 ********************************

 हम जानते तो इश्क़ न करते किसी के साथ;
ले जाते दिल को ख़ाक में इस आरज़ू के साथ।

  ********************************

 दबे होंठों को बनाया है सहारा अपना,
सुना है कम बोलने से
बहुत कुछ सुलझ जाता है.!!

  ********************************

 समन्दर की स्याही बनाकर शुरू किया था लिखना
खत्म हो गई स्याही मगर माँ की तारीफ बाकी है ।।

  ********************************

 तमाम नींदे गिरवी है उसके पास।
ज़रा सी मोहोब्बत ली थी जिससे।।

 ********************************

 हमें क्या पता था, मौसम ऐसे रो पड़ेगा;
हमने तो आसमां को बस अपनी दास्ताँ सुनाई थी।

 ********************************

 मुझे भी सिखा दो भूल जाने का हुनर..
मैं थक गया हूँ हर लम्हा हर
सांस तुम्हें याद करते करते..!!

  ********************************

 मोहब्बत की आजमाइश दे दे
कर थक गया हूँ ऐ खुदा..
किस्मत मेँ कोई ऐसा लिख दे,
जो मौत तक वफा करे।

 ********************************

 यूँ तो शिकायते आप से सैंकड़ों हैं मगर..
आप एक मुस्कान ही काफी है मनाने के लिये।

  ********************************

 तुम्हारा साथ तसल्ली से चाहिए मुझे..
जन्मों की थकान लम्हों में कहाँ उतरती है !!

  ********************************

 तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता ,
पता नहीं वजह तेरी खूबी है या मेरी कमी..!!

  ********************************

 ए खुदा अगर तेरे पेन की श्याही खत्म है
तो मेरा लहू लेले, यू कहानिया अधूरी न लिखा कर।

  ********************************

 इश्क़ है या कुछ और ये तो पता नहीं ,
पर जो तुमसे है वो किसी और से नही..!!

  ********************************

 तुम्हारी याद ऐसे महफूज़ है मेरे दिल मे,
जैसे किसी गरीब ने रकम रक्खी हो तिजोरी में.!!

  ********************************

 तेरी यादों ने मुझे क्या खूब
मशरूफ किया है ऐ सनम..
द से मुलाकात के लिए भी
वक़्त मुकर्रर करना पड़ता है।

  ********************************

 ना प्यार कम हुआ है
ना ही प्यार का अहेसास,
बस उसके बिना जिन्दगी
काटने की आदत हो गई है !!

  ********************************

 आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक..!!

  ********************************

 ख्वाब मत बना मुझे.. सच नहीं होते,
साया बना लो मुझे.. साथ नहीं छोडेंगे..!!

  ********************************

 मोहब्बत रोग है दिल का इसे दिल पे ही छोड़ दो,
दिमाग को अगर बचा लो तो भी गनीमत हो..!!

  ********************************

 कौन चाहता है खुद को बदलना,
किसी को प्यार तो किसी
को नफरत बदल देती है।

  ********************************

 ज़ख़्म दे कर ना पूछा करो दर्द की तुम शिद्दत,
दर्द तो दर्द होता हैं, थोड़ा क्या और ज्यादा क्या।

  ********************************

 लिखना तो था के हम खुश है उसके बिना
मगर आसू निकल पड़े कलम उठाने से पहले

  ********************************

 इस नाज़ुक दिल में किसी के लिए
इतनी मोहबत आज भी है यारो.
की हर रात जब तक आँखे ना
भीग जाये नीद नही आती

  ********************************

 कुछ खास नही बस इतनी सी है
मोहब्बत मेरी .. .!!
हर रात का आखरी खयाल और
हर सुबह की पहली सोच हो तुम.

  ********************************

 ऐसा करते हैं तुम पर मरते हैं,
वैसे भी हमें मर ही जाना हैं!!

  ********************************

 इतनी ठोकरे देने के
लिए शुक्रिया ए-ज़िन्दगी
चलने का न सही,
सम्भलने का हुनर तो आ गया

  ********************************

 ज़नाज़ा इसलिए भारी था उस गरीब का ,.,
वो अपने सारे अरमान साथ लेकर गया था ,.,!

  ********************************

 वक़्त मिला उसे तो हमें
भी याद कर ही लेगा वो,
फ़ुरसत के लम्हों में हम
भी बड़े ख़ास हैं उसके लिए.

  ********************************

 खूश्बु कैसे ना आये मेरी बातों से यारों,
मैंने बरसों से एक ही फूल
से जो मोहब्बत की है ।

  ********************************

 खुदा करे, सलामत रहें दोनों हमेशा.
एक तुम और दूसरा मुस्कुराना तुम्हारा

  ********************************

पढ़ रहा हुं मैं इश्क की किताब
अगर बन गया वकील तो ,
बेवफओं की खैर नही…।

 ********************************

 मेरी तन्हाई पुछती हे मुझसे,
बता आज कौन बिछड गया तुझसे,
क्या बताऊँ की मेरा कोई साथी ही नही,
शायद आज जुदा हो गया हुँ खुद से.!

 ********************************

 वही हम हैं...वहीज़िन्दगी है हमारी
हाँ कभी-कभी कुछ अलग-सा
भी हो जाया करता है...!.

 ********************************

 बस कर........
अब और इम्तिहान मत ले
मेरे सब्र का ऐ ज़िन्दगी...
वर्ना मुझे बस कुछ ही वक़्त
लगेगा तेरा ये खेल ख़त्म करने में...

  ********************************

 इश्क करते है तुमसे
इसलिए खामोश है अबतक,,,
खुदा न करे मेरे लब
खुले और तुम बर्बाद हो जाओ.....

 ********************************

 प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझे
दौलत की सोचोगे तो पूरी दुनिया बेचनी पड़ेगी...

 ********************************

 उसने पूछा कोई आखिरी ख्वाहिश....
जुबान पर आ गया सिर्फ तुम...!!!

  ********************************

 हमको खबर भी होने नही दी
किस मोड़ पर लाकर दिल तुने तोड़ा
अपना बनाना रहा दूर तुने
औरो के हो जाए ,ऐसा ना छोड़ा

  ********************************

 कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा,
मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं ।

  ********************************

 हम तो इन्तेजार करते करते अब मर जायेंगे...
कोइ तो आये एेसा जिन्दगी में जो बेवफा ना हो....!!!

 ********************************

 दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो...
इन्तजार उसका..
जिसको एहसास तक नहीं

Post a Comment

0 Comments