Romantic Good Night Messages For Boyfriend

क्यूँ दुनिया वाले मोहब्बत को खुदा का दर्ज़ा देते हैं,
हमने आज तक नहीं सुना कि खुदा ने बेवफाई की हो...!!!

*************************

 ये मेरी शायरी ने भी कमाल कर दिया,
आज शायरी सुनके उसने मुझसे कहा ...
मेरी जान ले लो मगर मुझे बेबफा ना कहो


*************************

 याद मीठी सी दिलाकर चले गए !
दिल हमारा साथ उठा कर चले गए !!
सबे महफिल देखती ही रह गई !
वो मस्त ऑखों से पिलाकर चले गए !!


*************************

 स्याहीथोड़ी‬ कम पड़ गई वर्ना किस्मत
तो अपनी भी खूबसूरत #लिखी गई थी....



 लगता है हमारी हथेली में
love line है ही नही..
साला बचपन में जलजीरा चाटते
चाटते उसको भी साफकर गये...


*************************

 इश्क मुहब्बत क्या है..?
मुझे नही मालूम…?बस …..
तुम्हारी याद आती है..? सीधी सी बात है


*************************

 बहुत अंदर तक तबाही मचाता है…
वो आँसू जो आँख से बह नहीं पाता 


*************************

 वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह..
फिर हल्का सा मुस्कराया,
और कहा, मोहब्बत की थी ना… ??


*************************

 न दो इल्जाम हमें की क्यों इतना घुरते है हम तुमे!
जाकर उससे पूछो क्यों इनता हशीन बनाया तुमे !!


*************************

 ना करते तूम से कोई वादा तो
आज इंतजार नही करना पड़ता ,
वादा जो निभाना है तो इंतजार ही करना पड़ेगा 


*************************

 दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,
तुम ख्वाबो में आकर युँ तडपाया ना करो.


*************************

 तुझे कोई और भी चाहे,
इस बात से दिल थोडा थोडा जलता है,
पर फखर है मुझे इस बात पे कि,
हर कोई मेरी पसंद पर मरता हैँ


*************************

 दिलो मे खोट,,,जुबां से प्यार करते है ,,,
बहुत से लोग दुनिया मे,,,,बस यही व्यपार करते है


*************************

 अगर वो ज़िन्दगी में फ़कत एक बार मेरा हो जाता...
तो मैं ज़माने की किताबों से लफ़्ज़ बेवफाई ही मिटा देता...


*************************

 वो कहते हैं हम जी लेंगे खुशी से तुम्हारे बिना,
हमें डर है वो टूटकर बिखर जायेंगे हमारे बिना।


*************************

 मैंने अपने ख्वाहिशो को दिवार में चुनवा दिया,
खामखाँ जिंदगी में अनारकली बनके नाच रही थी !!


*************************

  मरहम लगा सको तो गरीब के
जख्मो पर लगा देना हकीम बहुत है
बाजार में अमीरो के इलाज खातिर !!


*************************

 पहली बारिश का नशा ही कुछ अलग होता हैं,
पलको को छूते ही सीधा दिल पे असर होता हैं।


*************************

 तुम दूर हो या पास फर्क किसे पड़ता है,
तू जँहा भी रहे तेरा दिल तो यँही रहता है..!


*************************

 उसकी हसरत है मुझे बर्बाद होते देखे,
और मेरी तमन्ना है की में आबाद हो जाऊ..


*************************

 इतना भी ना चाहो किसी को ,
वो चला जाये, और ज़िन्दगी बेरंग ,
बोझिल, और गुमनाम हो जाए..


*************************

 चाहत देस से आनेवाले ये
तो बता के सनम कैसे हैं ..?
दिलवालों की क्या हालत हैं,
यार के मौसम कैसे हैं ...


*************************

 कुछ खास नही बस इतनी
सी है मोहब्बत मेरी .. .!!
हर रात का आखरी खयाल और
हर सुबह की पहली सोच हो तुम.


*************************

 तुझको भी जब अपनी कसमें अपने वादे याद नहीं;
हम भी अपने ख्वाब तेरी आँखों में रख कर भूल गए।


*************************

 उसकी मोहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब सिलसिला था;
अपना भी नहीं बनाया और किसी का होने भी नहीं दिया।


*************************

 जिंदगी का खेल शतरंज से भी मज़ेदार निकला....!
मैं हारा भी तो अपनी हीं रानी से.....


*************************

 जिन्दगी मे कभी खुद को तन्हा न समझना,
साथ हूं मे तुम अपने से जुदा न समझना,
उर्म भर दोस्ती का वायदा किया है,
अगर जिन्दगी साथ न दे,
तो बे वफा न समझना!!


*************************

 मेरी तन्हाई पुछती हे मुझसे,
बता आज कौन बिछड गया तुझसे,
क्या बताऊँ की मेरा कोई साथी ही नही,
शायद आज जुदा हो गया हुँ खुद से.!


*************************

 बस कर........
अब और इम्तिहान मत ले
मेरे सब्र का ऐ ज़िन्दगी...
वर्ना मुझे बस कुछ ही वक़्त
लगेगा तेरा ये खेल ख़त्म करने में...


*************************

 कुछ बातों के मतलब हैं और कुछ मतलब की बातें, . . .
जब से फर्क समझा, जिंदगी आसान हो गई!!


*************************

 दुरिया खलती है मुझे....
इतने करीब रिश्तों में...!!
कि आ भी जाओ मेरे पास. ..
यु ना मोहब्बत दो मुझे किश्तो मे..!!


*************************

 जा माफ़ किया जी ले अपनी मर्ज़ी की ज़िन्दगी ,
हम मोहब्बत के बादशाह है बेवफाओं को मुँह नहीं लगाते।


*************************

 मुद्दत बाद जब उसने मेरी खामोश
आँखें देखी तो ये कहकर फिर रुला गया
कि लगता है अब सम्भल गए हो


*************************

 याद उन्ही की आती है,
जिनसे दिल के तालुक हो ,
हर किसी से मोहब्बत हो ऐसा तो मुमकिन नहीं


*************************

 अफ़सोस होता है उस पल जब
अपनी पसंद कोई ओर चुरा लेता है..
ख्वाब हम देखते है..
और हक़ीक़त कोई और बना लेता है.


*************************

 दर्द हैं दिल में पर इसका ऐहसास नहीं होता…
रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता…
बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में…
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता…


*************************

 अभी ज़रा वक़्त है,
उसको मुझे आज़माने दो.
वो रो रोकर पुकारेगी मुझे,
बस मेरा वक़्त तो आने दो।।।


*************************

 मुझे भी शामिल करो गुनहगारों की महफ़िल में ,
मैं भी क़ातिल हूँ अपनी हसरतों का ,
मैंने भी अपनी ख्वाहिशों को मारा है।


*************************

 खुल जाता है तेरी यादों का बाजार सुबह सुबह
और हम उसी रौनक में पूरा दिन गुजार देते है..


*************************

 बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी……
पहले पागल किया..
फिर पागल कहा..
फिर पागल समझ कर छोड़ दिया..


*************************

 हजारो गम है सीने मे मगर शिकवा करें किससे…
इधर दिल है तो अपना है…उधर तुम हो तो अपने हो…


*************************

कौन करता है यहाँ प्यार निभाने के लिये,
दिल तो बस एक खिलौना है जमाने के लिये !!


*************************

 हमें तो प्यार के दो लफ़्हज़ भी ना नसीब हुए..
और बदनाम ऐसे हुए जैसे इश्क़ के बादशाह थे हम


*************************

 वादो से बंधी जंजीर थी जो तोड दी मैँने,
अब से जल्दी सोया करेंगे ,
मोहब्बत छोड दी मैँने….


*************************

 मोहब्बत में हमेशा अपने
आप को बादशाह समझा हमने
मगर एहसास तब हुआ जब
किसी को माँगा फकीरों की तरह


*************************

 दुरिया खलती है मुझे....
इतने करीब रिश्तों में...!!
कि आ भी जाओ मेरे पास. ..
यु ना मोहब्बत दो मुझे किश्तो मे


*************************

 तू हजार बार रुठेगी फिर भी तुझे मना लूँगा …
तुझसे प्यार किया हे कोई गुनाह नही,
जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा


*************************

 इश्क लिखना चाहा तो कलम भी टूट गयी….
ये कहकर अगर लिखने से
इश्क मिलता तो आज इश्क
से जुदा होकर कोई टूटता नही


*************************

 एक पुराना मोसम लोटा,,याद भरी पुरवायी भी,
ऐसा तो कम ही होता है,,वो भी हो तन्हाई भी


*************************

 तेरे ना होने से बस इतनी सी कमी रहती है
मै लाख मुस्कुराउ आखो मे नमी सी रहती है.


*************************

 सच कहू तो में आज भी इस सोच में गुम हू !!!!
में तुम्हे जीत तो सकता था जाने हरा क्यों ? 


*************************

 मुमकिन नहीं शायद किसी को समझ पाना …
बिना समझे किसी से क्या दिल लगाना


*************************

 ना जाने क्या कमी है मुझमें,
ना जाने क्या खूबी है उसमें,
वो मुझे याद नहीं करती,
मैं उसको भूल नहीं पाता 


*************************

 बरबाद कर देती है मोहब्बत,
हर मोहब्बत करने वाले को,
क्योंकि इश्क़ हार नही मानता,
और दिल बात नही मानता।

Post a Comment

0 Comments