New 2 line hindi attitude shayari 2017 Hindi Shayari ...

બેહિસાબ મહોબ્બત નો એક જ ઉસુલ છે,
તું મળે નાં મળે... પણ તું હર હાલ માં કબુલ છે..

**********************************

 ન્સાનિયત દિલ મેં હોતી હૈ, હૈસિયત મેં નહીં...
ઉપરવાલા કર્મ દેખતા હૈ, વસિયત કો નહીં...!


**********************************

 સાબિતી તો ઈશ્વર ને પણ આપવી પડે છે.....
તેથી જ મંદિર પર ધજા એને પણ રાખવી પડે છે....


**********************************

 एक शायर है हम ...अपना अंदाज़ जुदा रखते है,,,
लोग मंदिर और मशीद् में जाते है...हम दिल में खुदा रखते है...



 काश दिल की आवाज का इतना असर हो जाये...!!
हम उन्हे याद करे और उन्हे भी खबर हो जाये...!!


**********************************

 रंजिश हो दिल में तो...खुल के गिला करो
यूं शिकायतों का बोझ लेके किसी से मिला ना करो...!!!


**********************************

 कुत्ते भोंकते हे अपना वजूद बनाये रखने के लिये ,,
और लोगो की खामोशी हमारी मौजूदगी बया करती हे ।।


**********************************

 गुमान न कर अपने दिमाग पे मेरे दोस्त ,
जितना तेरा दिमाग हे उतना तो मेरा दिमाग खराब रेहता हे !!


**********************************

 बदल ही जाती है जिन्दगी की सच्चाई उस वक्त...!!
जब कोई तुम्हारा तुम्हारे सामने तुम्हारा नही रहता...!!


**********************************

 अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब,
नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे....!!


**********************************

 तेरे ना होने से जिंदगी में बस इतनी सी कमी रहती है ,
मैं चाहे लाख मुस्कुराऊ , इन आँखों में नमी ही रहती हैं ..


**********************************

 कुछ नहीं है आज मेरे शब्दों के गुलदस्ते में,
कभी कभी मेरी खामोशियाँ भी पढ लिया करो…!!


**********************************

 આંખ બંધ કરીને તારૂ ચીત્ર કંડારી શકુ
તો "વિશ" ખુલી આંખે તને કેટલો પ઼ેમ કરી શકું?


**********************************

 લાગણીઓ સમજવા " શબ્દો " ની કયાં જરૂર છે ? ,
વાંચતા આવડે તો " આંખ " જ કાફી છે.લાગણીઓ સમજવા " શબ્દો " ની કયાં જરૂર છે ? ,
વાંચતા આવડે તો " આંખ " જ કાફી છે.


**********************************

 जब रसोई में काम करते हुए माँ की चूड़ी खनकती है
हर बार मुझे वो आवाज, मन्दिर की घंटी सी लगती है ..!!


**********************************

 रफ्तार कुछ जिंदगी की यू बनाये रखी हैहमने..
कि दुश्मन भले आगे निकल जाए पर दोस्त कोई पिछे ना छुटेगा.


**********************************

 जब कुछ सेकण्ड की मुस्कराहट से तस्वीर अच्छी आ सकती है,
तो हमेशा मुस्करा के जीने से जिन्दगी अच्छी क्यों नहीं हो सकती।


**********************************

 जो लिख दिया हमने वो औरों को मंजूर हो रहा है...
'हम' नहीं हमारे लफ्ज़ ही सही, कुछ तो मशहूर हो रहा है...


**********************************

 माझं म्हणून नाही आपलं म्हणून जगता आलं पाहिजे…
जग खुप चांगलं आहे फक्त चांगलं वागता आलं पाहिजे.


**********************************

 याद आयेगी हमारी तो बीते कल की किताब पलट लेना,
यूँ ही किसी पन्ने पर मुस्कुराते हुए मिल जायेंगे हम


**********************************

 प्यार-इश्क-मोहब्बत पर शायरी लिखने बैठा था...
कमबक्त मैं तो तेरे नाम के सिवा कुछ लिख ही नहीं पाया...


**********************************

 Muft Me Sirf Maa Baap Ka Pyar Milta Hai
Uske Baad Har Rishte Ki Keemat Chukani Padti Hai..!


**********************************

 कोई हुनर, कोई राज, कोई रविश, कोई तो तरीका बताओ के....
दिल टूटे भी ना, साथ छूटे भी ना, कोई रूठे भी ना ...और जिंदगी गुजर जाऐ।


**********************************

 आदत से मज़बूर हूँ वरना कब का भुला दिया होता।
जलती हुई शम्मा को क्यों हाथो से बुझा दिया होता।


**********************************

 माना के तु रानी से कम नही मगर,
उस बात मे भी दम नही, जब तक तेरे बादशाह हम नही


**********************************

 દિલ ના ધબકારા પૂછતાં રહ્યા અમને કે કોના માટે ધડકવું અમારે
મેં કીધું નામ તો નઈ લેવાય કેમ કે પ્રેમ સફળ ઓછો ને બદનામ વધારે થાય છે

**********************************

 Agar meye mar bhi jau tou usye khabar na karna yaro.........
Wo jo rone lagegi tou yei dil fir say dhadak uthega yaro......


**********************************

 मत सोच तु इतना जिंन्दगी के बारेमे
जिसने जिंन्दगी दी उसने भी तो कुछ सोचा होगा...


**********************************

 मेरे अहसासों को अक्सर अल्फाज नही मिलते शायद,
शब्द ख़ामोश हो गये हैं या भावनायें अर्थहीन हो गयी हैं...!!!


**********************************

 न कोई इल्ज़ाम, न कोई तंज़, न कोई रुसवाई;
दिन बहुत हो गए, यारों ने कोई इनायत नहीं की..!!


**********************************

 न कोई इल्ज़ाम, न कोई तंज़, न कोई रुसवाई;
दिन बहुत हो गए, यारों ने कोई इनायत नहीं की..!!


**********************************

 कितने ही सुलझ जाएँ अपने से हम ......पर
ये जिंदगी अपनी बातों मे उलझा ही लेती है ......!!!!


**********************************

 ज़रा-ज़रा सी बात पर तकरार करने लगे हो...
लगता है मुझसे बेइंतहा प्यार करने लगे हो..!!

**********************************

 बजती नहीं है तालियाँ किसी एक हाथ से,
ढूंढे वो गली गली अपने ही प्यार को।


**********************************

 "ખમીર,ખાનદાની અને આશરો આટલી અમીરાત હોય....
" માણસ " હોવુ એથીય વધારે બીજી કઇ ઝવેરાત હોય?"


**********************************

 दिल में है जो बात किसी भी तरह कह डालिए
ज़िन्दगी ही ना बीत जाए कहीं बताने मे.....


**********************************

 माला बिखर गयी तो क्या है खुद ही हल हो गयी समस्या
आँसू गर नीलाम हुए तो समझो पूरी हुई तपस्या


**********************************

 मछलियां भी खुश हो गयी यह जानकर,
की आदमी भी आदमी को फ़साने लगा है, ज़ाल में..


**********************************

 मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ.....
कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है !!


**********************************

 ग़ज़ब की एकता देखी लोगो की ज़माने में !!!
ज़िन्दो को गिराने में और मुर्दों को उठाने में .. 


**********************************

 Khud pe beeti to rote ho, sisaskte ho,
Woh jo hum ne kiya tha, kya ishq nahi tha..


**********************************

 Yeh keh kar chala gaya ke tujh jaise to hazaar milenge,
Jab mere jaisa hi dhundna tha to mujhe kyun chhoda??


**********************************

 Shayar ban na aasan nahi hai mere dost,
Shabd jodne se pehle dil tudwana padta hai..


**********************************

  Jaane kaun se gham ko chhupane ki koshish thi unki,
Aaj har baat par unko muskuraate dekha..


**********************************

 Unki yaadon mein dil cheekh cheekh kar rota hai,
Aur duniya kehti hai ishq bezuban hota hai..


**********************************

 फुर्सत निकालकर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त बसाकर ले जाओगे मुझे अपने दिल में..!!


**********************************

 हम आज भी शतरंज का खेल अकेले ही खेलते हैं ।।
क्योंकि दोस्तों के खिलाफ चाल चलना हमें आता नही।।


**********************************

 जो ख़ुद उदास हो, वो ख़ुशी कैसे लुटायेंगे,
बुझे दिये से नया दिया किस तरह जलाएंगे..??


**********************************

 Ab koun se mausam se koyi aas lagaye,
Barsaat mein bhi yaad na jab unko hum aye..


**********************************

 Mujhe pta h meri khuddariya tumhe kho degi
Main bhi kya karu mujhe maangne ki aadat nhi.

**********************************

 क्या ऎसा नहीं हो सकता के हम तुमसे तुमको माँगे,
और तुम मुस्कुरा के कहो के अपनी चीजें माँगा नहीं करते


**********************************

 जिन्दगी भर कोई साथ नहीं देता यह जान लिया हमने
लोग तो तब याद करते हैं जब वह खुद अकेले हों....


**********************************

 Maine toh unhi pucha tha ki kyun. aaye ho iss darti par........
Woh. Pagali muskura ke pyaar se boli sirf tumre liye.....


**********************************

 मुझे ढूढने की कोसिस अब न किया करो,
तूने रास्ता बदला तो मैंने मंजिल बदल दी।


**********************************

 रोज़ आता है मेरे दिल को तस्सली देने,
ख्याल-ए-यार को मेरा ख्याल कितना है।


**********************************

 લાગણી મારી છે આયુર્વેદ જેવી,
એટલે મોડી તને થાશે અસર..!


**********************************

 ज़रूरी नहीं हर बात पर ,तुम मेरा कहा मानों
दहलीज़ पर रख दी है चाहत ,आगे तुम जानो


**********************************

 जब तक शीशा था, लोगों ने बहुत तोड़ा,
जिस दिन पत्थर बना, लोगों ने देवता मान लिया।..


**********************************

 हर रात जान बूझकर रखता हूँ दरवाज़ा खुला...
शायद कोई लुटेरा मेरा गम भी लूट ले.....


**********************************

 कर लो "इजहार" जब तक जिन्दा हूं!फिर ना कहना....
चला गया वो पागल, बस दिल में यादें छोड़कर...


**********************************

 मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज,
मैं अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिलों पे राज करता हूँ ..

**********************************


 ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है मुहब्बत के लिए,
फिर रूठकर वक़्त गवाँने की जरूरत क्या है...


**********************************

 चांद प्यासा और तारे है प्यासे,और है प्यासी रैन सुहानी,
कहीं अधुरी रह न जायें, अे सनम ! अपनी प्रेम कहानी ।


**********************************

 कमाल का ताना दिया है आज ज़िन्दगी ने,
अगर कोई तेरा है तो तेरे पास क्यूँ नही?.

**********************************

 आजकल के हर आशिक की अब तो यही कहानी है..
मजनू चाहता है लैला को, लैला किसी और की दीवानी है !!!


**********************************

 उनकी चाल ही काफी थी इस दिल के होश उड़ाने के लिए ,.. .
अब तो हद हो गई जब से वो पाँव में पायल पहनने लगे ..


**********************************

 "तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़कर देखना हमें बदनाम कर गया"




Post a Comment

0 Comments