Good Morning Love Messages For Girlfriend Romantic Love ..

टूटे हुए सपने से खुली, आज सुबह फिर आँख ....
सपना आज फिर चुभेगा दिन भर....!!

**************************

 मैखाने मैं आऊंगा मगर पिऊंगा नहीं साकी,
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती...

 **************************

 अगर फुर्सत के लम्हों में मुझे
याद करते हो तो अब मत करना,
क्योंकि मैं तन्हा जरूर हूँ ...
मगर फ़िज़ूल बिलकुल नहीं...

 **************************

 हमको खबर भी होने नही दी
किस मोड़ पर लाकर दिल तुने तोड़ा
अपना बनाना रहा दूर तुने
औरो के हो जाए ,ऐसा ना छोड़ा

 **************************

 कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा,
मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं ।



 हम तो इन्तेजार करते
करते अब मर जायेंगे...
कोइ तो आये एेसा जिन्दगी
में जो बेवफा ना हो....!!!

 **************************

 कुछ बातों के मतलब हैं
और कुछ मतलब की बातें, . . .
जब से फर्क समझा,
जिंदगी आसान हो गई!!

 **************************

 तुम जिन्दगी में आ तो गये
हो मगर ख्याल रखना,
हम जान दे देते हैं
मगर जाने नहीं देते !!

 **************************

 तेरी तो फितरत थी सबसे मुहब्बत करने की,
हम तो बेवजह खुद को खुशनसीब समझने लगे

 **************************

 ना लफ़्ज़ों का लहू निकलता है
ना किताबें बोल पाती हैं,
मेरे दर्द के दो ही गवाह
थे और दोनों ही बेजुबां निकले…

 **************************

 मायूस ना हो, लबों को भी तकलीफ ना दे...
गर है प्यार तुझे, तो आँखों से बयां कर दे...

 **************************

 रह न पाओगे भुला कर देख लो,
यकीं न आये तो आजमा कर देख लो,
हर जगह महसूस होगी मेरी कमी,
अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।

 **************************

 जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें
मगर ये जो दिल 

 **************************

 कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

 **************************

 तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।

 **************************

 हर पल कुछ सोचते रहने की आदत गयी है
हर आहट पे च चौंक जाने की आदत हो गयी है
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा
हिज्र की रातों के संग
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

 **************************

 हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला!
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!

 **************************

 नहीं करती थी प्यार तो
मुझे बताया होता
गौर फरमाइएगा
नहीं करती थी प्यार तो
मुझे बताया होता
बुला के पार्क में यूं धोखे से अपने भाइयो से
तो ना पिटवाया होता।

 **************************

 दिल किसी से तब ही लगाना
जब दिलों को पढ़ना सीख लो
वरना हर एक चेहरे की फितरत में
ईमानदारी नहीं होती।

 **************************

 ठुकरा के उसने मुझे कहा ​कि मुस्कुराओ
मैं हंस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था
मैंने खोया वो जो मेरा था ​ही नहीं
उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था।

 **************************

 जीने की तमन्ना बची कहाँ है
भुलाया जो है हमें आपने
यह तो बेवफ़ाई की हद ही है
जिसे पार किया था हमने।

 **************************

 चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये है​ ​​
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये है​ ​​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है
बहुत खुश​ ​​ जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

 **************************

 ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

 **************************

  मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है
देकर वो आपकी आँखों में आँसू
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

 **************************

 बिखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फरियाद मांगी
मेरी साँसों ने भी हर पल उसकी ख़ुशी मांगी
जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफ़ा में
कि मैंने आखिरी फरियाद में भी उनकी वफ़ा मांगी।

 **************************

 प्यार करने का हुनर हमें आता नहीं
इसीलिए हम प्यार की बाज़ी हार गए
हमारी ज़िन्दगी से उन्हें बहुत प्यार था
शायद इसीलिए वो हमें ज़िंदा ही मार गए!

 **************************

 ना पूछ मेरे सब्र की इंतहा कहाँ तक है
तू सितम कर ले
तेरी हसरत जहाँ तक है
वफ़ा की उम्मीद
जिन्हें होगी उन्हें होगी
हमें तो देखना है
तू बेवफ़ा कहाँ तक है।

 **************************

 इंसान के कंधों पर ईंसान जा रहा था
कफ़न में लिपटा अरमान जा रहा था
जिन्हें मिली बे-वफ़ाई महोब्बत में
वफ़ा की तलाश में श्मशान जा रहा था।

 **************************

 वो तो दिवानी थी मुझे तन्हां छोड़ गई
खुद न रुकी तो अपना साया छोड़ गई
दुख न सही गम इस बात का है
आंखो से करके वादा होंठो से तोड़ गई।

 **************************

 जिंदगी देने वाले
मरता छोड़ गये
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।

 **************************

 देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी 

 **************************

 किसी को इश्क़ की अच्छाई ने मार डाला,
किसी को इश्क़ की गहराई ने मार डाला,
करके इश्क़ कोई ना बच सका,
जो बच गया उससे तन्हाई ने मार डाला

 **************************

 आज हम उनको बेवफा बताकर आए है!
उनके खतो को पानी में बहाकर आए है .
कोई निकाल न ले उन्हें पानी से…
इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए है !

 **************************

 ऐ सनम कभी प्यार मत करना,
हो जाये तो इंकार मत करना,
निभा सको तो निभा देना,
लेकिन किसी की जिंदगी बरबाद मत करना !!!! 

 **************************

 कदम कदम पर बहारो ने साथ छोडा,
जरुरत पडने पर यारो ने साथ छोडा,
बादा किया सितारोँ ने साथ निभाने का,
सुबह होने सितारो ने साथ छोडा.

 **************************

 वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी…
मिलेगी नज़रो से नज़रे तो अपनी नज़रे ज़ुका लेगी…
उसे मेरी कबर पर दीया मत जलाने देना…
वो नादान है यारो… अपना हाथ जला लेगी

 **************************

 मेरा कत्ल करने की उसकी साजीश तो देखो......
करीब से गुज़री तो चेहरे से पर्दा हटा लिया

 **************************

 आ जाओ लहराती इठलाती हुई,
तुम इन हवाओं की तरह!
मौसम ये बहुत बेदर्द है,
तुझे मेरे दिल से पुकारा है!!

 **************************

 उन्होंने जो किया ये शायद उनकी फितरत है!
अपने लिये तो प्यार एक इबादत है!
न मिले उनसे तो मरकर बता देंगे!
कि कितनी मुहब्बत है इस दिल में!

 **************************

 कहती है दुनिया जिसे प्यार नशा है
खताह है! हमने भी किया है प्यार
इसलिए हमे भी पता है! मिलती है
थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम!
पर इसमें ठोकर खाने का
भी कुछ अलग ही मज़ा है!

 **************************

  मैंने प्यार किया बड़े होश के साथ!
मैंने प्यार किया बड़े जोश के साथ!
पर हम अब प्यार करेंगे बड़ी सोच के साथ!
क्योंकि कल उसे देखा मैंने किसी और के साथ!

************************** 

 हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला!
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!

 **************************

 नहीं करती थी प्यार तो
मुझे बताया होता
गौर फरमाइएगा
नहीं करती थी प्यार तो
मुझे बताया होता
बुला के पार्क में यूं धोखे से अपने भाइयो से
तो ना पिटवाया होता।

 **************************

 वो बात ही कुछ अजीब थी
वो हमसे रूठ गयी
जो दिल के सबसे करीब थी
उसने तोड़ दिया दिल हमारा
और लोग कहते है वो लड़की बहुत सरीफ थी

 **************************

 टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता
इश्क़ में मरीज को आराम नहीं आता
ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता
के टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता …

 **************************

 दर्द की बारिशों में हम अकेले ही थे,,,!!!.. ऐ*दोस्त..!!!
जब बरसी ख़ुशियाँ न जाने भीड़ कहां से आ गयी.!!!

 **************************

 तेरी ख़ुशी की खातिर मैंने कितने ग़म छिपाए
अगर मैं हर बार रोता तो तेरा शहर डूब जाता

 **************************

 गम की परछाईयाँ यार की रुसवाईयाँ,
वाह रे मुहोब्बत ! तेरे ही दर्द और तेरी ही दवाईयां

 **************************

 तेरे बिना में ये दुनिया छोड तो दूं ,
पर उसका दिल कैसे दुखा दुं ,
जो रोज दरवाजे पर खडी केहती हे ;
“बेटा घर जल्दी आ जाना “

 **************************

 न जाने इतनी मोहब्बत कहाँ से
आ गयी उस अजनबी के लिए ,
की मेरा दिल भी उसकी खातिर
अक्सर मुझसे रूठ जाया करता हे ..!!

 **************************

 रात चुप हे मगर चाँद खामोस नही ,
केसे कहु आज फिर होस नही ;
ऐसे डूबे हे उनकी यादों में की ,
हाथ में जाम हे पर पिनेका होस नही !

 **************************

 तुमसे बिछड़े तो मालुम हुवा
की मौत भी कोई चीज़ हे ,
ज़िदगी तो वोह थी जो हम
तेरी मेहफिल में गुजार आये

 **************************

 करेगा ज़माना भी कद्र हमारी एक दिन,
बस हमारी ये वफ़ा करने की लत मिट जाये...

 **************************

 चैन मिलता था जिसे आके पनाहों में मेरी....
आज देता है वही अश्क निगाहों में मेरी....

 **************************

 कशिश होती है कुछ फूलों में पर ख़ुशबू नहीं होती,
ये अच्छी सूरतों वाले सभी अच्छे नहीं होते..

 **************************

 दीदार की तलब हो तो नज़रे जमाये रखना
क्युकी, नकाब हो या नसीब सरकता जरुर है।

 **************************

 बस कर........
अब और इम्तिहान मत ले मेरे
सब्र का ऐ ज़िन्दगी...
वर्ना मुझे बस कुछ ही वक़्त लगेगा
तेरा ये खेल ख़त्म करने में...

 **************************

 तन्हाई मे मुस्कुराना भी इश्क़ है,
इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है,
यूँ तो रातों को नींद नही आती
पर रातों को सो कर भी जाग जाना इश्क़ है

 **************************

 वक़्त मिला उसे तो हमें भी याद कर ही लेगा वो,
फ़ुरसत के लम्हों में हम भी बड़े ख़ास हैं उसके लिए.


Post a Comment

0 Comments