2015 latest two line heart touching shayari sms in hindi

तुम मुझे अच्छे या बुरे नहीं लगते
बस अपने लगते हो।

*********************

 काश एक खवाहिश पूरी हो इबादत के बगैर
वो आ कर गले लगा ले…..मेरी इजाजत के बगैर!

 *********************

 क्या ऐसा नहीं हो सकता हम प्यार मांगे…
और तुम गले लगा के कहो, “और कुछ?”

 *********************

 लोग हर बार यही पूछते हैं तुमने उसमें क्या देखा ,
मैं हर बार यही कहता हूँ , बेवजह होती है मोहब्बत।



 पहले तो यूं ही गुज़र जाती थीं , मोहोब्बत हुई…
तो रातों का एहसास हुआ..

 *********************

 एक हसरत थी की कभी वो भी हमे मनाये..
पर ये कम्ब्खत दिल कभी उनसे रूठा ही नही।

 *********************

  લાગણી મારી છે આયુર્વેદ જેવી,
એટલે મોડી તમને થાશે અસર.
  
*********************

 નફરત નું પોતાનું તો કોઈ જ અસ્તિત્વ નથી,
એ ફક્ત પ્રેમ ની ગેરહાજરી નું પરિણામ છે.

 *********************

 દેખાય છે? મારી આંખોમાં તેજ છે,
બસ તારી જ યાદો નો ભેજ છે

 *********************

 તારાથી થોડી દુર જવાની જરૂર છે,
ખબર તો પડે તારા પ્રેમ નું કવેરેજ ક્યાં સુધી છે ?

 *********************

 રમત રમાડતાં માણસ ગમી જાય
ને, ગમતાં માણસ જ, રમાડી જાય.

 *********************

 ખોટા પ્રેમનો અનુભવ જ
સાચા પ્રેમની કિંમત સમજાવે છે

 *********************

 उस की हसरत है जिसे दिल से मिटा भी न सकूँ
ढूंढने उस को चला हूँ जिसे पा भी न सकूँ

 *********************

 शिकायतें वहाँ होती हैं, जहाँ ऐतबार ना हो….
मेरा तो यकीन ही तुम हो, तो शिकायत कैसी……

 *********************

 *"सर झुकाने" की "खूबसूरती" भी क्या "कमाल" की रही*.

 *********************

 Teri aankhe aasu pee jau asi meri takdir kaha.
Tere gam ko apana bena lu bs yehi tammana yeha

 *********************

 देखना किसीकी आँख तुम्हारी वजह से नम न हो,
क्यूंकि तुम्हें उसके हर एक आँसूं का क़र्ज़ चुकाना होगा !!.

 *********************

सिर्फ वक्त ही गुजारना हो तो किसी और को आजमा लेना,
हम तो चाहत और दोस्ती दोनों इबादत की तरह करते है !!

 *********************

 बिखर गए लफ्ज मेरे,आँखों में सावन उभर आया
अपना ही कोई रूबरू जब आँख फेरता नजर आया

 *********************

 तुझे देखा तो नहीं आज तक बस महसूस किया है मैंने
तेरे इन्हीं खूबसूरत ख्यालों से बेपनाह मुहब्बत है मुझे...!!

 *********************

 Apne husn pe mat kar itna garur yeh hansi,
ek tu hi nahi hai is jahan mein hansi.

 *********************

 मैं वो दरबारी संगीत नहीं,जो महफ़िल में गाये जाते हैं....
मैं इश्क सूफियाना हूँ, जो रुह से रुह तक पहुँचता हैं......

 ********************* 

  *तेरा अंदाज़-ए-शायरी* *भी क्या कमाल है;*
*पढूँ तो दिल धड़के*, *ना पढूँ तो बेचैन रहूँ*

 *********************

 गलतफहमियों के सिलसिले इतने दिलचस्प हैं,
हर ईंट सोचती है, दीवार मुझ पर टिकी है ।

 *********************

 आज भी हम तुम्हारे व्यक्तित्व के कायल है
मगर इश्क और खुशियों से हुये हम घायल है ।

 *********************

 कभी हम से भी 2 पल की मुलाक़ात कर लिया करो
क्या पता आज हम तरस रहे हैं कल तुम ढूँढ ते रहे जाओ...

 *********************

  ख्वाब मंजिल के, मत दिखा मुझको.....
तू कहाँ तक साथ आएगी, ये बता मुझको..!!

 *********************

 बिछड़ कर फिर मिलेंगे,,, यकीन कितना था...
बेशक ख्वाब ही था,,, मगर हसीन कितना था ...

 *********************

 इरादा कत्ल का था, तो सर कलम कर देते तलवार से,
क्यों इश्क़ में ढाल के तुमने हर सांस पे मौत लिख दी...

 *********************

 ये मोहब्बत की राहें हैं जनाब यहाँ किसी की नहीं चलती
कहीं दिल नही मिलते तो कहीं लकीरें नही मिलतीं

 *********************

 मैं चिरागों की भला कैसे हिफाज़त करता ?
वक़्त सूरज को भी हर रोज़ बुझा देता है...!!!

 *********************

 दुशमन‬ भी हमारी ‪#हालत‬ देखकर ‪‎हँस‬ उठे कहने लगे...
जिसका हम कुछ न कर सके...उसका ‪मोहबत‬ ने कया ‪‎हाल‬ कर दिया

 *********************

 तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का;
थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते!!!

 *********************

 ऐसा नहीं है की ,,अब तेरी चाहत नहीं रही,,
बस टूट टूट कर बिखरने की,, हिम्मत नहीं रही,,

 *********************

 "Yeh Sangdilon ki duniya hai yahan sunta nahi fariyad koi,
Yahan hastey hain log jab bhi hota hai barbaad koi" 

  ********************* 

 कहाँ मिलता है.. कभी कोई समझने वाला..
जो भी मिलता है.. समझा के चला जाता है..

 *********************

 जो दिलो में शिकवे और जुबान पर शिकायते कम रखते है
वो लोग हर रिश्ता निभाने का दम रखते हैं

 *********************

 हमने भी कभी चाहा था,एक ऐसे शख्स को...
जो आइने से भी नाज़ुक था,मगर था पत्थर का....

 *********************

 हम ने भी ज़िंदगी को तमाशा बना दिया..
उस से गुज़र गए कभी ख़ुद से गुज़र गए...!!!
शुभरात्रि दोस्त ....

 *********************

 मुझे नहीं पता की ये बिगड़ गया या सुधर गया,
बस अब ये दिल किसी का भरोसा नहीं करता...

 *********************

 ना मेरी नज़र से नज़र मिला, के ये इत्तफाक अजीब है,
मुझे शॉक जाम ए शराब का, तेरी आँखें जाम ए शराब हैं ।

 *********************

 आज़ाद कर दिया हे हमने भी उस पंछी को …,
जो हमारी दिल की कैद में रहने को तोहीन समजता था ..

 *********************

 एक साँस भी पुरी नही होती तेरे ख्यालो के बिना,
तुमने ये कैसे सोचा कि हम जिदंगी गुजार देगे तेरे बिना..

 *********************

 दिखावे की मोहब्बत का बाज़ार चलता है यहाँ ...!!
सच्चे एहसास यहाँ रोज खुदखुशी करते है ..

 *********************

 तुजे भूलने का जज़्बा तो हर रोज़ दिल में आता हे,
पर कैसे भुला दे दिल जो हर ज़र्रे में सिर्फ तुजे ही पाता हे

 *********************

 मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी है और शोर भी है...
तुमने देखा ही नहीं ठीक से... इन आँखों में कुछ और भी है..

Post a Comment

0 Comments