2 line Attitude Shayari And SMS in Hindi

ढूंढ रहा हूँ , मगर नाकाम हूँ अब तक,
 वो लम्हा जिसमें तुम याद न आये हो..

****************************

 प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझे।
दौलत की सोचोगे तो पूरी दुनिया बेचनी पड़ेगी तुम्हे।

 ****************************

 प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझे।
दौलत की सोचोगे तो पूरी दुनिया बेचनी पड़ेगी तुम्हे।

 ****************************

  सुना था.. 'मोहब्बत' मिलती है मोहब्बत के बदले
हमारी बारी आई तो, रिवाज ही बदल गया...!!!

 ****************************

 तुम्हारे पास हमारा दिल है उसकी हिफाज़त किया करो
अगर है हमसे कोई शिकायत तो शिकायत किया करो



 मैंने कब तुझसे तेरे जाने की वजह पूछी है ...!!
पर मुझे छोड़ने से पहले कोई इलज़ाम तो लगा ...!!

 ****************************

 गुलाब की महक भी फिकी लगती है कौन सी खुश्बू मुजमें बसा 
गयी हो तुम जिंदगी हा क्या तेरी चाहत के सिवा

 ****************************

 हम में थी कमी जो आपको हम याद ना आए
आप में थी कुछ बात जो हम आपको भूल ना पाये

 ****************************

 हम से भुलाया नही जाता एक उसका प्यार,
लोग जिगरवाले है जो नया महबुब बना लेते है ,

 ****************************

 मेरे यूँ चुप रहने से नाराज ना हो जाना कभी,
दिल से चाहने वाले तो अकसर खामोश ही रहते है.

 ****************************

  चूम लेती है लटक कर कभी चेहरा तो कभी लब..!
तुमने अपनी जुल्फों को बहोत सिर पे चढ़ा रखा हे 

 ****************************

 तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा होता...
खबर तो होती की सफ़र कितना तय करना है..

 ****************************

 हवाएँ हड़ताल पर हैं शायद
आज तुम्हारी खुशबू नहीं आई....

 ****************************

 तुम से मिला था प्यार कुछ अच्छे मेरे नसीबथे.......!.
हम उन दिनोँ अमीर थे जब तुम करीब थे...........!!

 ****************************

 वो मेरे हाथो की लकीरे देखकर अक्सर मायूस हो जाती है,
शायद,उसे भी एहसास हो गया है की वो मेरी क़िस्मत मे नही है.

 ****************************

  ये खुली-खुली सी जुल्फें, इन्हें लाख तुम सँवारो,....
जो मेरे हाथ से सँवरतीं, तो कुछ और बात होती!!..

 ****************************

 काश मोहब्बत के भी इलैक्शन होते
हम भी कुछ खर्चा करके जीत लेते उसको…

 ****************************

 तुझे क्या खबर है हम कैसे जी रहे तेरे बिन
अब तो हर लम्हा हर वक्त तु ही है ख्वाबों में

 ****************************

 मदहोश मत करो मूझे अपना चेहरा दिखा कर„
मोहब्बत अगर चेहरे से होती तो खूद़ा दिल ना बनाता..!

 ****************************

 कितनी खुबसूरत सी हो जाती है उस वक़्त दुनिया,
जब हमारा अपना कोई कहता है तुम याद आ रहे हो...

 ****************************

 कुछ ऐसी मुहोब्बत उसके दिल में भर दे,
रब वो जिसको भी चाहे वो मैं बन जाऊं.....

 ****************************

 मैं कभी किसीको अपने दिल से दुर नही करता,
बस जीनका दिल भर जाता है वो मुजसे दुर हो जाते हैँ।

 ****************************

 छोटी सी लिस्ट है मेरी "ख़्वाहिशों" की..!!
पहले भी "तुम" और आख़िरी भी"तुम"..!!

****************************

 सीख रहा हूँ धीरे धीरे तेरे शहर के रीवाज, . .
जिससे मतलब निकल जाये उसे ज़िंदगी से निकाल दो...

 ****************************

 तुम मोहब्बत के सौदे भी अजीब करते हो,
बस मुस्कुरा देते हो और अपना बना लेते हो ..

 ****************************

 मेरे इन होंठों पर तेरा नाम अब भी है;
भले छीन ली तुमने मुस्कुराहट हमारी।

 ****************************

 चांदनी को गुमान है की मेरे चाँद में नूर है
मगर ऐसे जीने में क्या मजा जिसकी चांदनी दूर है.

 ****************************

 शिकायत है उन्हें कि, हमें मोहब्बत करना नही आता,
शिकवा तो इस दिल को भी है, पर इसे शिकायत करना नहीं आता

 ****************************

 मुश्किल था कुछ तो इश्क़ की बाज़ी को जीतना;
कुछ जीतने के ख़ौफ़ से हारे चले गए।

 ****************************

 मेरी लिखी किताब, मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगी.....
इसे पढा करो, मोहब्बत सीख जाओगे...

 ****************************

 हम फिर उनके रूठ जाने पर फ़िदा होने लगे;
फिर हमे प्यार आ गया जब वो ख़फ़ा होने लगे।

 ****************************

 'अनीस' आसान नहीं आबाद करना घर मोहब्बत का;
ये उन का काम है जो ज़िंदगी बर्बाद करते हैं।

 ****************************

 ज़ीना हराम कर रखा है, "मेरी इन आँखों ने,
खुली हो तो तलाश तेरी, बंद हो तो ख्वाब तेरे..

 ****************************

 वो कहीं भी गया लौटा तो मेरे पास आया;
बस यही बात अच्छी है मेरे हरजाई की।

 ****************************

 जब कभी टूट कर बिखरो तो बताना हमको;
हम तुम्हें रेत के जर्रों से भी चुन सकते हैं।

 ****************************

 तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी;
एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे।

 ****************************

 तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा;
शमा होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा।

 ****************************

 वो लाख तुझे पूजती होगी मगर तू खुश न हो ऐ खुदा;
वो मंदिर भी जाती है तो मेरी गली से गुजरने के लिए!

 ****************************

 आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें;
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की।

 ****************************

 नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को;
निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है।

 ****************************

 दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त;
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते।

 ****************************

 ना उजाङ ऐ खुदा किसी के हसीन आशियाने को....
वक्त बहुत लगता है एक छोटा सा घर बनाने मेँ......

 ****************************

 तू नहीं तेरे अंदर बैठे रब्ब से मोहब्बत है मुझे..
तू तो बस एक जरिया है मेरी इबादत का..

 ****************************

 हम तेरे इश्क में उस मुकाम पर आ पहुंचे,,!
जहां दिल किसी और को चाहे तो गुनाह लगता है..!!

 ****************************

 कलम भी रो पड़ी है दर्दो गम लिखते लिखते मेरा ।।
कहती है तबाही का मंज्ज़र इस कदर नहीं देखा कभी मेने।।

 ****************************

 नफरत हो गई है मोहब्बत नाम के शब्द से ही मुझे ।।
ना जाने कितने मासूमो की ज़िन्दगी बर्बाद कर चूका है ये ।।।

 ****************************

 कभी फन्ना हुआ था मोहब्बत के समन्दर में दीवाना तेरा।।
देख हर लहरों से लड़के आज फिर ेआया है मिलने परवाना तेरा।

 ****************************

 जो सूरुर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में....!!
बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में…¡¡

 ****************************

 इश्क-ऐ-दरिया में हम डूब कर भी देख आये ,
वो लोग मुनाफे में रहे जो किनारे से लौट आये ..

 ****************************

 ए दिल इन आंखो को तरसने दे,
आज बादल की बारी है उसे ही बरसने दे l


Post a Comment

0 Comments