Shayari ,Love Sad Funny, Hindi Shayari Status SMS

तुम लाख छुपा लो सीने मे अहसास हमारी चाहत का, 
दिल जब भी तुम्हारा धड़का है आवाज यहाँ तक आई हैं.!!

**************************

 चंद दिनों में दिल भर जाता है हमसे हर किसी का..
ना जाने ये दुनिया का दस्तूर है या हम इतने बुरे हैं...!!!

 **************************

 रोशनी में कुछ कमी रह जाये तो बता देना
दिल आज भी हाजिर है....जलने के लिये

 **************************

  "उनको कुछ इस तरह से अपनाया है हमने
वो नही था तकदीर मैँ...फिर भी उसे बेपनाह चाहा है। हमने"..



 तेरा नजरिया मेरे नजरिये से अलग था शायद...
तुझे वक्त गुजारना था और मुझे ज़िन्दगी...

 **************************

 ये खामोशी तेरी दिलरुबा कुछ और कहती है,
निगाहे कुछ और कहती है,अदा कुछ और कहती है, 

 **************************

 मैंने गले में सारे ताबीज डाल के देखे हैं पर
जो तेरी यादों को रोक सके वो धागा मिला ही नहीं...!! 

 **************************

 अगर मेरी चाहतो के मुताबिक जमाने में हर बात होती
तो बस मै होता तुम होती और सारी रात बरसात होती

 **************************

 किसी को क्या बताये की कितने मजबूर है हम...,
चाहा था सिर्फ एक तुमको...और अब तुम से ही दूर है हम...।”

 **************************

 यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहां.!
कि तेरे ही क़रीब से गुज़र गए तेरे ही ख़्याल में.!!

 **************************

 आज किसी ने मेरा ये बात कहके दिल तोड़ दिया....
की तू इतराना छोड़ दे लोग तेरे नहीं तेरी शायरी के दीवाने हैं...!

 **************************

 तुमने छुपा के खुद को रक्खा अपनी नज़रो को दुपट्टे के किनारो से।
पूछता रहा तेरा पता मैं इस बेरहम जमाने से।

 **************************

 टूट जायेंगी उसकी ज़िद की आदत उस वक़्त
जब मिलेगी ख़बर उनको की याद करने वाला अब याद बन गया है

 **************************

 वो कहते है के वो मेरी रग रग से वाकिफ है.
पर वो आज तक मेरे दिल से निकलने का रास्ता नहीं ढूढ पाए...

************************** 

 क्या बताएं तुझे याद करने का आलम,
वो पल ही याद नहीं जब तुझे भूलें हों सनम ।

 **************************

 न हथियार से मिलते हैं न अधिकार से मिलते हैं...
दिलों पर कब्जे बस निःस्वार्थ प्यार से मिलते हैं.....!

************************** 

 "चाहो तो छोड़ दो... चाहो तो निभा लो...!!!
मुहब्बत तो हमारी है ...पर.. मर्जी सिर्फ तुम्हारी है.

************************** 

 उनकी मुहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब है...
अपना भी नहीं बनाते और किसी का भी नही होने देते....!!!!

 **************************

 मेरे ‪‎मरने‬ के बाद तुझपे एक इलज़ाम‬ होगा..!!
कफ़न उठा के देखना,,,ज़ालिम‬ दिल पे बस तेरा ही ‪‎नाम‬ होगा…!!.

 **************************

 सोचता हूँ कभी तेरे दिल में उतर के देख लूं,
कौन है तेरे दिल में जो मुझे बसने नहीं देता…!!!

 **************************

 हम नींद के शौक़ीन तो ज्यादा नहीं लेकिन,
तुम्हारा ख्वाब ना देखे तो गुज़ारा नहीं होता...!!!

 **************************

 हम तो फना हो गए उनकी आँखे देखकर .....
.ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे ....!!

 **************************

 अब तक ढूंढ रहा हूँ मैं अपने अंदर उस शख्स को,
जो नजर से खो गया है नजर आने के बाद...

 **************************

 ज़ुदाई के वक्त उसनेँ मूड़ के ईस तरह देख़ा,
मैँ दिल पे हाथ न रख़ता तो मेरा दिल निकल जाता... ।

 **************************

 मेरी उदासियो की वजह बहुत है.."
"फिर भी मुस्कुराता हूँ बस तेरे लिए...

 **************************

 जहां हो, जैसे हो, वहीं... वैसे ही रहना तुम ,
तुम्हें पाना जरुरी नहीं... तुम्हारा होना ही काफी है. 

 **************************

 बस इतना सा असर होगा हमारी यादों का,
कि कभी कभी तुम बिना बात मुस्कुराओगे...!!!

 **************************

 आज उदासी ने भी हाथ जोड़कर कहा मुझसे,
तुझे तेरे प्यार का वास्ता,मेरा आशियाना छोड दे.!!

 **************************

 कुछ तबियत ही मिली थी ऐसी की चैन से जीने की सूरत न हुई
जिसे चाहा उसे पा न सके जो मिला उससे मोहब्बत न हुई

 **************************

 कुछ पाने की तमन्ना में हम खो देते बहुत कुछ है
क्या खोया और क्या पाया कह पाना बहुत मुश्किल है..... 

 **************************

 रस तो तितलियाँ चूसती है भौरे बदनाम होते हैं
दगा तो लडकियाँ करती है लडके बदनाम होते हैं

 **************************

 आज उदासी ने भी हाथ जोड़कर कहा मुझसे,
तुझे तेरे प्यार का वास्ता,मेरा आशियाना छोड दे.!!

 **************************

 उसकी मोहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब सिलसिला था;
अपना भी नहीं बनाया और किसी का होने भी नहीं दिया।

 **************************

 ख़ुदा ने लिखा ही नहीं तुझको मेरी क़िस्मत में शायद,
वरना खोया तो बहोत कुछ था एक तुझे पाने के लिए

 **************************

 अक्सर पूछते है मुझसे लोग...... किसके लिए लिखते हो ...??
......अक्सर कहता है मेरा मासूम दिल ..........."काश कोई होता" ......??

 **************************

 दोस्तों जानता हूँ मशहूर बहुत हे मेरे अल्फाजऔर शायरी ...

मगर एक पगली ऐसी भी हे जो मुझसे मनाई नही जाती....

Post a Comment

0 Comments