Sad Status in Hindi For FaceBook Whatsapp

कभी मैंने कहा था कि मौत के साथ सपने नहीं मरते
लेकिन ये कहना शायद भूल गया कि कुछ सपने जिंदा रहते हुए भी दफनाता हुआ आया हूँ मैं..

********************************

 ।।तेरी मोहब्बत को तो पलकों पर सजायेंगे;
मर कर भी हर रस्म हम निभायेंगे;
देने को तो कुछ भी नहीं है मेरे पास;
मगर तेरी ख़ुशी मांगने हम खुदा तक भी जायेंगे।।

 ********************************

 वाह रे तेरी दिवानगी का हुन्नर ना जी पाता हु ना पी पाता हु
सरुर तेरे इस्क का उतरता नही किसो मय मे तेरे इस्क जैसा सरुर मिलता नही

 ********************************

 कबसे बैठा हूँ मैं इंतेजार में,
झूठा वादा ही कर कोई प्यार में...!
क्या सितम है जानम, तेरी सर की कसम...
याद चाहे ना कर तू मुझे गम नहीं...हाँ
मगर भूल जाने की कोशिस ना कर...!!!




 इक झलक जो मुझे आज तेरी मिल गयी मुझे
फिर से आज जीने की वजह मिल गयी
 
 ********************************

तेरी यादें, तेरी बातें, बस तेरे ही फसाने हैं,
हाँ, कुबूल करते हैं, कि हम तेरे दीवाने हैं..!!

 ********************************

 लगता है तुम्हें नज़र में बसा लूँ ,
औरों की नजरों से तुम्हें बचा लूँ,
कहीं चूरा ना ले तुम्हें मुझसे कोई..
आ तुझे मैं अपनी धड़कन में छुपा लूँ.

 ********************************

 कोशिश बहुत की थी राज ए मोहब्बत ब्याँ न हो..!
पर मुमकिन कहाँ था कि आग लगे और धुआँ न हो....!!

 ********************************

 जिंदगी देने वाले, मरता छोड़ गये,
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।

 ********************************

 Na chaho kisi ko itna ki chahat aapki majboori ban jaye,
Chaho kisi ko itna aapka pyaar uske liye zaroori ban jaye.

 ********************************

 कौन है इस जहाँ मे जिसे धोखा नहीं मिला,
शायद वही है ईमानदार जिसे मौक़ा नहीं मिला.

 ********************************

 रिश्ते दिल से बनते है बातों से नही ,
कुछ लोग बहुत सी बातो के बाद भी अपने नही होते
और कुछ शांत रहकर भी अपने बन जाते है 

 ********************************

 कीमत है सिक्कों की ईमान सस्ता है,
यहां रिश्तों का मतलब ही मतलब का रिश्ता है..

 ********************************

 एक पल का एहसास बनकर,आते हो तुम....
दुसरे ही पल, ख्वाब बनकर उड़ जाते हो तुम.!!
जानते हो की लगता है डर, तन्हाइयों से....
फिर भी बार बार, तनहा छोड़ जाते हो तुम.!!

 ********************************

 "जाने अनजाने में क्या से क्या हो गया,
I am sorry पर तुमसे प्यार हो गया !!"

 ********************************

 जानते थे कि नहीं हो सकते कभी तुम हमारे;
फिर भी खुदा से तुम्हें माँगने की आदत हो गई . 

 ********************************

 प्यार भी बारिश की बूंदों की तरह होता हैं.....!!
जिसको छूने की ख्वाहिश में,
हथेलियाँ तो गीली हो जाती है,..!
पर
हाँथ हमेशा खाली ही रहते है …

 ********************************

 जो कहते थे मुझे डर है कहीं मैं खो न दूँ तुम्हे..
सामना होने पर मैंने उन्हें चुपचाप गुजरते देखा है.. :))

 ********************************

 कैसे कहें कि ज़िंदगी क्या देती है;
हर कदम पे ये दगा देती है;
जिनकी जान से भी ज्यादा कीमत हो दिल में;
उन्ही से दूर रहने की सज़ा देती है।

 ********************************

 खुदा ने लिखा ही नही उसको मेरी किस्मत मे शायद,
वरना खोया तो बहुत कुछ था,
मैने उससे पाने के लिए.!!

 ********************************

 हम तुम से नाराज होंगे तो
इस कदर होंगे,
की तेरी ये आंखे मेरी एक झलक
देखने के तरस जायेंगी, 

 ********************************

 निकाल दिया उसने हमें अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज़ की तरह
ना लिखने के काबिल छोड़ा ना जलने के

 ********************************

 उसको बेवफा कहकर अपनी ही नजर में गिर जाते है हम…..
वो प्यार भी अपना था और वो पसंद भी अपनी थी…

 ********************************

 बात मोहब्बत की थी तब ही तो लुटा दी जिदंगी तेरे ऊपर"..!!!
अगर
"जिस्म से प्यार होता" तो
तुझसे भी हसीन चेहरे बिकते है बाजार में"..!

 ********************************

 क़भी चुपके से मुस्कुरा कर देखना,
दिल पर लगे पहरे हटा कर देख़ना,
ये ज़िन्दग़ी तेरी खिलखिला उठेगी,
ख़ुद पर कुछ लम्हें लुटा कर देखना!!!

 ********************************

 थाम लो हाथ किसी हमसफ़र का ,
यॆ मौके किसी को बार बार नहीं मिलते ।
कभी तो मुँह मोड़ लेगी रौनकें-जवानी
कोई यहाँ जिन्दगी भर जवां नहीं रहते ॥

 ********************************

 मंजिल पे पहुँच जाने के आसार बहोत है !
दुश्मन के साथ साथ मेरे यार बहोत है !
गैरो की क्या बिसात के आते जो मूकाबिल !
अपनी सफों में अपने हीं गद्दार बहोत है !

 ********************************

 कुछ बस्तियां जो उजड़ के फिर बस जाती हैं
ऊन बस्तियों की खुशियाँ ही निराली होती हैं /
दिये तो कुछ लोग जला लेते हैं उजालों मे भी
जो अँधेरों मे जलते हैं उनकी बात निराली होती है 

 ********************************

 जाने क्या मुझसे ज़माना चाहता है!
मेरा ‪#‎दिल‬ तोड़कर मुझे ही हसाना चाहता है!
जाने क्या बात झलकती है मेरे इस चेहरे से!
हर शख्स मुझे आज़माना चाहता है!

 ********************************

 उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो;
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो;
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है;
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो....... 

 ********************************

 यूँ तो कोई शिकायत नहीं मुझे मेरे आज से
मगर कभी-कभी बीता हुआ कल बहुत याद आता है..!

 ********************************

 वो मेरे लिए कुछ खास हैं यार,
जिनके लौट आने कि आस हैं यार,
वो नजरो से दूर हैं तो क्या हुआ,
उनके दिल की धड़कन मेरे पास है यार…

 ********************************

 साथ रहते रहते यूहीं वक्त गुज़र जाएगा
दूर होने के बाद कौन किसे याद आएगा
जी लो ये पल जब हुम्साथ है
कल का क्या पता, वक्त कहाँ ले जाएगा

 ********************************

 तेरी हर एक अदा मोहब्बत सी लगती है
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है
पहले नही अब सोचने लगे है हम
ज़िंदगी के हर लम्हे मे तेरी ज़रूरत सी लगती है

 ********************************

 Dooriyon se rishton mein fark nahi padta,
Baat to dil ki nazdeekiyon ki hoti hai,
Paas rehne se bhi rishte nahi ban paate,
Warna mulakatein to roz kitnon se hoti hain.

 ********************************

 जिस मोड़ पे तू मिल गई वहां एक नई राह खुल गई
तू नए किरण की बहार है अब रात भी मेरी ढल गई
मेरा इश्क भी, तेरा हुस्न भी गजलों में आके घुल गई
मेरी शायरी की किताब तू कभी खो गई, कभी मिल गई

 ********************************

 हाँ हो गयी गलती मुझसे मैं जानता हूँ .
पर अभी तुझे मैं अपनी जान मानता हूँ.
एक आखरी मौका दे मुझे आज भी मैं तुझे अपनी शान मानता हूँ

 ********************************

 मंजिलों से अपनी दूर ना जाना..
रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना..
जब भी जरूरत हो जिन्दगी में किसी अपने की..
हम अपने हैं ये भूल ना जाना 

 ********************************

 Ho puri dil ki har khwahish aapki,
Aur mile khushiyon ka jahan aapko,
Jab agar aap mange aasma ka ek tara,
To bhagwan dede sara aasma aapko.

 ********************************

 मुझे दर्द की तलाश में तुम मिल ही गए
मेरे तन्हा सी राह में तुम मिल ही गए
चांद निकला है प्यास की दो दरिया में
इन निगाहों के आईने में तुम मिल ही गए
हर खामोशी में किसी गम का फसाना है
हिज्र की हर दास्तां में तुम मिल ही गए
अक्सर इबादतों में तेरा नाम लेता हूं
मेरे मसजूद की सूरत में तुम मिल ही गए

 ********************************

 दिल की जितनी भी परेशानी है सब तेरी ही मेहरबानी है
आरजुओं का एक समंदर है और आंखों में कितना पानी है
फूल भी और चुभन भी है हुस्न की भी क्या जवानी है
चांदनी रात है सुलगती हुई आज दिल में आग तो लगानी है

 ********************************

 करीब आके मुस्कुरा कर चले जाना हमें भी अपनी अदाओं से दगा देना
तू देख ले, मेरा दामन बेगुनाह नहीं सारे इल्जाम मेरे सर पे लगा देना
तुझे तलाश है मेरी सरफरोशी का कभी तलवार तू पीछे से चला देना
मैं बेजुबां हूं, कुछ भी गा नहीं सकता ये गजल मेरी मैयत पे गुनगुना देना

 ********************************

 उनकी गली को जबसे जाना बिसर गया मैं रस्ता घर का
अपनी सूरत भूल गया मैं याद रहा चेहरा दिलबर का
हाल मिला नहीं अब तक हमको उनके दिल के अंदर का
आंखों के आंचल का आंसू भिगो गया दामन चादर का

 ********************************

 क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है!
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है!
लगने लगते है अपने भी पराये!
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है

 ********************************

 अगर तुम न होते तो गज़ल कौन कहेता,
तुम्हरे चहेरे को कमल कौन कहेता,
ये तो करिश्मा है मोहोब्बत का,
वरना पथ्थर को ताज महल कौन कहेता ?

 ********************************

 Kashish dil ki har cheez bhula deti hai,
Band aakhon mein bhi sapne saja deti hai,
Sapno ki duniya jarur rakhna dost,
Kyun ki hakikat to aksar logo ko rula deti hai…

 ********************************

 सोचा याद न करके थोड़ा तड़पाऊं उनको!
किसी और का नाम लेकर जलाऊं उनको!
पर चोट लगेगी उनको तो दर्द मुझको ही होगा!
अब ये बताओ किस तरह सताऊं उनको!

 ********************************

 Khushiyon ki aarzoo mein mukaddar so gaye
Aandhi aisi chali ki apne bhi kho gaye,
Kya khoob tha unka andaz-e-mohabbat,
Pyar dene aaye the aur palkein bhigo gaye

 ********************************

 Humein aap ki jaan nahi sirf saath chahiye,
Sacche ishq ka sirf ek ehsaas chahiye,
Jaan toh ek pal mein di jaa sakti hain,
Pr hume apki mohabbat aakhri sans tk chahiye.

 ********************************

काफी दिनों से एक खवाईश सी रही है दिल मैँ।
कि,
किसी उदास शाम मे वो आकर कहे
"बन्द कर दो अब
रोना लो हम लौट आए तुम्हारे पास.."

 ********************************

 Hamari rooh me na samaye hote to bhool jate tumhe
Itna kareeb na aaye hote to bhool jate tumhe.,
Ye kahtey hue ki mera talluk nahin tumse koyi,
Ankhon mein aansu na aaye hote to bhul jate tumhe.

 ********************************

 तू नाराज है तो
गुस्सा ही दिखा दे...
यू खामोश रहती है तू .. तो
कमबख्त बेचैनियाँ मुझको खा जाती हैं ..

 ********************************

 महोब्बतों से जाने क्यों यकीन अब तो उठ सा चला है दोस्तों,
वफा भी खाये कसम जिसकी, हमें उस वफा कि तलाश है !!!!

 ********************************

 वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे!
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे!
दूर से जब इतना याद करते है आपको!
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे? 

 ********************************

 मेरे पास है बचा क्या दिल के सिवा ऐ हमदम
तेरे लिए खुशी का मैं गहना कहां से लाऊं
सांसों में रह गए हैं आहों के चंद कतरे
दम मेरा निकल जाए वो सदमा कहां से लाऊं

 ********************************

 निखरा था जब चाँद का चेहरा
बिखरा था किरणों का सेहरा
गाये थे जब गीत हवा ने
आए थे तुम नींद चुराने.

 ********************************

 कभी-कभी हालात ऐसे भी बनते है
मैं अपने ही उसूलों से फिसल जाता हूँ
इस जिंदगी को जब भी समझने बैठता हूँ
मैं अपने ही कुछ सवालों में उलझ जाता हूँ!!

 ********************************

 सब कुछ तो है नसीब मे दिन रात की तन्हाई मे आराम नहीं !
मेरी खताओं की सजा अब मौत ही सही इसके सिवा कोई भी अरमान नहीं !
कहते है ओ मेरी तरफ नजरें उठाये इस शहर में तूझसे बड़ा कोई बदनाम नहीं !!
तेरा हर इल्जाम कुबूल !!!!!

 ********************************

 हुए बदनाम मगर फिर भी न सुधर पाए हम,
फिर वही शायरी, फिर वही इश्क, फिर वही तुम.”
सालो साल बातचीत से उतना सुकून नही मिलता,
जितना एक बार महबूब के गले लग कर मिलता है....!!
वो भी क्या दिन थे जब "बेचैन" होता था तेरे घर के सामने,
साइकिल की चैन उतार कर तुझे चैन से देखता था..

 ********************************

 Apni Aankho K Samandar Me Utar Jaane De,
Tera Mujrim Hun Mujhe Doob K Mar Jaane De,
Aag Dunya Ki Lagaai Hui Bujh Jayegi,
Koi Aansu Mere Daaman Me Bikhar Jaane De.

 ********************************

 ना में तुम्हे खोना चाहता हूँ ना तेरी याद में रोना चाहता हूँ
जब तक ज़िन्दगी है मैं हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा
बस यही बात तुमसे कहना चाहता हूँ...

 ********************************

 नहीं फुर्सत यक़ीन मानो हमें कुछ और करने की..,
तेरी यादें....तेरी बातें....हमें बहुत मशरूफ रखती हैं।

 ********************************

 चेहरे “अजनबी” हो जाये तो कोई बात नही, लेकिन
रवैये “अजनबी” हो जाये तो बडी “तकलीफ” देते हैं !

 ********************************

 Tera Ehsaan Hum Kabhi Chuka Nahi Sakte,
Tu Agar Maange Jaan To Inkaar Kar Nahi Sakte..
Mana Ki Zindagi Leti Hai Imtihaan Bahot,
Tu Agar Ho Humare Saath To Hum Kabhi Haar Nahi Sakte..

 ********************************

 फुर्सत निकालकर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त बसाकर ले जाओगे मुझे अपने दिल में..!!

 ********************************

 क्या ज़रूरत थी दूर जाने की,
पास रहकर भी तो तड़पा सकते थे…

 ********************************

 क्या ऎसा नहीं हो सकता के हम तुमसे तुमको माँगे,
और तुम मुस्कुरा के कहो के अपनी चीजें माँगा नहीं करते

 ********************************

 Maine toh unhi pucha tha ki kyun. aaye ho iss darti par........
Woh. Pagali muskura ke pyaar se boli sirf tumre liye......

 ********************************

 क्या मिला तुम्हे
सारी उम्र महोब्बत करके ?
एक रोने का हुनर, और
एक रातो का जागना...

 ********************************

 वो कहता थे की तेरे जिस्म का साया हूँ मैं
तभी तो जरा सा अधेंरा देखकर साथ छोड़ दिया...!!!
जय श्री राधे कृष्णा जी...
शुभरात्रि दोस्त....

 ********************************

 पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,,,
दिल में क्या है वो बात नही समझती,,,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,,,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती…. 

 ********************************

 आज किसी की दुआ की कमी है,
तभी तो हमारी आँखों में नमी है,
कोई तो है जो भूल गया हमें,
पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है. 

 ********************************

 मोहब्बत में ज़बरदस्ती अच्छी नही होती,
जब आप का दिल चाहे,
तब मेरे हो जाना हम नाराज़ ज़रूर होते है,
पर नफरत नहीं करते.. 

 ********************************

 कुछ और तो नहीं है इस गरीब के दामन में,
अगर कुबूल हो तो अपने लबों की हंसी दे दूँ...!!!

 ********************************

 चांद प्यासा और तारे है प्यासे,और है प्यासी रैन सुहानी,
कहीं अधुरी रह न जायें, अे सनम ! अपनी प्रेम कहानी ।
----अज्ञात----

 ********************************

 कैसे लीख दू तुजे में मेरे दिल का हाल
मुज़से भी बुरा होगा तेरे दिल का हाल
- "अल्प" प्रशांत

 ********************************

 कागज की कश्ती से पार जाने की ना सोच,
चलते हुये तुफानो को हाथ लगाने कि ना सोच,
दुनिया बडी बेदर्द है, इससे खिलवाड ना कर.,
जहाँ तक मुसीबत हो दिल बचाने की सोच...

 ********************************

 उम्र जलवों में बसर हो ज़रूरी तो नहीं
हर शब-ए-ग़म की सहर हो ये ज़रूरी तो नहीं
चश्म-ए-साक़ी से पियो या लब-ए-साग़र से पियो
बेख़ुदी आठों पहर हो ये ज़रूरी तो नहीं
नींद तो दर्द के बिस्तर पे भी आ सकती है
उनकी अगोश मे सर हो ये ज़रूरी तो नहीं

 ********************************

 तुम्हारे होगें चाहने वाले
बहुत इस दुनिया में,
मगर इस "पागल की तो
दुनिया ही तुम हो"..!!

 ********************************

 "तेरी महफ़िल से उठे तो किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़कर देखना हमें बदनाम कर गया"

 ********************************

 जरा देखो तो ये दरवाजे पर दस्तक किसने दी है.?
अगर 'इश्क' हो तो कहना, अब दिल यहाँ नही रहता........

 ********************************

 नजरे मिलाके मुझसे,
हे धान्धल मुसकुरा दो!
गलती अगर हुई तो,
दिल से उसे भुला दो!!

 ********************************

 Tera Qasoor Nahi Mujhe Ghussa Hai Apne Hi Dil Par ...
Nahi Dekhi Oqaat Apni Aur Bas Samma Liya Tujhe Khud Mein.

 ********************************

 वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते! खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते! मर गए पर खुली रखी आँखें! इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते ?..

 ********************************

 "मोहब्बत आज़मानी हे तो बस इतना ही काफी है...
ज़रा सा रुठकर देख लो मनाने कौन आता है...

 ********************************

 कुछ लोग पसंद करने लगे है अल्फाज मेरे;
मतलब मोहब्बत में बरबाद और भी हुए है...!!

 ********************************

 वो बोली छोड कलास को Film देखने चलते हैं, मै बोला,
इतनी Selfish ना बन उनके लिए भी सोच जो मेरे लिए Class में आती है.. :-

 ********************************

 वो आपका पलके झुका के मुस्कुराना;
वो आपका नजरें झुका के शर्मना;
वैसे आपको पता है या नहीं हमें पता नहीं;
पर इस दिल को मिल गया है उसका नज़राना।

Post a Comment

0 Comments