Romantic Love SMS in Hindi /Hindi Shayari

क्या अजीब सी ज़िद है..हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..

****************************

 तेरी आँखों में जब से मैंने अपना अक्स देखा है,
मेरे चेहरे को कोई आइना अच्छा नहीं लगता।

**************************** 

 रह न पाओगे भुला कर देख लो,
यकीं न आये तो आजमा कर देख लो,
हर जगह महसूस होगी मेरी कमी,
अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।

 ****************************

 जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।



 कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

 ****************************

 तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।

 ****************************

 मत बहा आंसुओं में जिंदगी को
एक नए जीवन का आगाज़ कऱ
दिखानी है अगर दुश्मनी की हद तो
ज़िक्र भी मत कर नज़र अंदाज़ कर।

 ****************************

 दिल किसी से तब ही लगाना
जब दिलों को पढ़ना सीख लो
वरना हर एक चेहरे की फितरत में
ईमानदारी नहीं होती।

 ****************************

 ठुकरा के उसने मुझे कहा ​कि मुस्कुराओ
मैं हंस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था
मैंने खोया वो जो मेरा था ​ही नहीं
उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था।

 ****************************

 वफाओं ​की बातें की हमने जफ़ाओं के सामने​ ​ ​
ले चले हम चिराग़ हवाओं के सामने​ ​ ​
उठे हैं जब भी हाथ बदली हैं क़िस्मतें​
​मजबूर है ​खुदा भी दुआओं के सामने​।

 ****************************

 ऐसा नहीं कि आप हमें याद नहीं आते
माना कि जहाँ के सब रिश्ते निभाये नहीं जाते
पर जो बस जाते हैं दिल में वो भुलाए नहीं जाते
बेवफाओं से हर तरह के रिश्ते निभाये नहीं जाते।

 ****************************

 उसके चेहरे पर इस कदर नूर था
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था
बेवफ़ा भी नहीं कह सकते उसको फराज़
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।

 ****************************

 चुपके से धड़कन में उतर जायेंगे,
राहें उल्फत में हद से गुजर जायेंगे,
आप जो हमें इतना चाहेंगे…
हम तो आपकी साँसों में पिघल जायेंगे.

 ****************************

याद है मुझे मेरी हर एक गलती,
एक तो मोहब्बत कर ली,
दुसरी तुमसे कर ली,
तिसरी बेपनाह कर ली

 ****************************

हर बार सम्हाल लूँगा गिरो तुम चाहो जितनी बार,
बस इल्तजा एक ही है कि मेरी नज़रों से ना गिरना...!!

 ****************************

 वफ़ा का दरिया कभी रुकता नही,
इश्क़ में प्रेमी कभी झुकता नही,
खामोश हैं हम किसी के खुशी के लिए,
ना सोचो के हमारा दिल दुःखता नहीं!

 ****************************

 गुलाम बनकर जिओगे तो.
कुत्ता समजकर लात मारेगी तुम्हे
ये दुनिया नवाब बनकर जिओगे तो,
सलाम ठोकेगी ये दुनिया….
दम कपड़ो में नहीं,
जिगर में रखो….
बात अगर कपड़ो में होती तो,
सफ़ेद कफ़न में,
लिपटा हुआ मुर्दा भी सुल्तान मिर्ज़ा होता

 ****************************

 मत फेंक पानी में पत्थर,
उसे भी कोई पीता होगा ,
मत रह यूँ उदास जिन्दगी में,
तुम्हें देखकर कोई जीता होगा।
 
 ****************************

 मुझे रिश्तो की लंबी कतारोँ से मतलब नही ,
कोई दिल से हो मेरा, तो एक शख्स ही काफी है..।

 ****************************

 सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें ,
इतने मासूम खरीदार से क्या लेना देना ।

 ****************************

 उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है,
वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुक़्दर मे नही है,
किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा,
वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है…

 ****************************

 ठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको आये ।।

 ****************************

 गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.

 ****************************

 मुझे गुमान था कि चाहा बहुत सबने मुझे;
मैं अज़ीज़ सबको था मगर ज़रूरत के लिए।

 ****************************

 चाहत के चिराग़ों में,ये ही अजीब बात है.....
मद्धम तो हो जाते हैं,मग़र बुझते नहीं...!

 ****************************

 बड़ी दूर चले आए थे तेरे
झूंठे वादों को सच्चा मान,
मुहब्बत के पंखों से दिखाउंगा
अब तुझे मैं नफरत की उड़ान..

 ****************************

 अब की बार मिलोगे तो खूब रुलायेंगे तुम्हे.
सुना है तुम्हे रोने के बाद सीने से
लिपट जाने की आदत है...!!

 ****************************

 चैन से रहने का हमको यूं मशवरा मत दीजिये,
अब मज़ा देने लगी हैं ज़िंदगी की मुश्किलें…!!

 ****************************

 हर शख्स परिन्दोँ का हमदर्द नही होता दोस्तोँ..
बहुत बेदर्द बैठे हैँ दुनिया मे जाल बिछाने वाले...!!

 ****************************

 हमें तो कब से पता था के तूबेवफा है ऐ बेखबर
तुझे चाहा ही इस लिए की शायद तेरी फितरत बदल जाये...!!

 ****************************

 ज़रा देखो ये दरवाज़े पर दस्तक किसनेदी है;
अगर इश्क़ हो तो कहना यहाँ दिल नही रहता

 ****************************

 बड़ी मुस्किल से बनाया था,
अपने आपको काबिल उसके उसने ये कहकर बिखेर दिया…
की तुमसे मोह्बत तो है पर पाने की चाहत नही हैं।

 ****************************

 तु खामोश क्यू है ये तो मालुम नही मगर, .
दिल डूब सा जाता है जब तु खामोश होता है....

 ****************************

 दोस्तों जानता हूँ मशहूर बहुत हे मेरे अल्फाज और शायरी ...
मगर एक पगली ऐसी भी हे जो मुझसे मनाई नही जाती.....

 ****************************

 अपनी आयु से अधिक अपनी छवि का ध्यान रखें,
क्योंकि छवि की आयु आपकी आयु से अधिक है ।।

 ****************************

 इश्क के रिश्ते भी बड़े नाजुक होते है साहब,
रात को नम्बर बिजी आने पर भी टूट जाते है.!!

 ****************************

 धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल
अभी तो पलकें झुकाई है मुस्कुराना अभी बाकी है उनका.

 ****************************

 मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका,
चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना….!

 ****************************

 इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

 ****************************

 तुम खुश-किश्मत हो जो
हम तुमको चाहते है वरना,
हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे
भी लोग इजाजत लेकर आते है..!!

 ****************************

 वो खुद पर गरूर करते है,
तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते है,
वो आम हो ही नहीं सकते !!

 ****************************

 तुमको मिल जायेगा बेहतर मुझसे !
मुझको मिल जायेगा बेहतर तुमसे !
पर कभी कभी लगता है ऐसे...
हम एक दूसरे को मिल जाते तो होता बेहतर सबसे !

 ****************************

 फ़ासले तो बढ़ा रहे हो मगर इतना याद रखना,
मुहब्बत बार बार इंसान पर मेहरबान नहीं होती.

 ****************************

 तुमसे किसने कह दिया कि मुहब्बत की बाजी हार गएहम?
अभी तो दाँव मे चलने के लिए मेरी जान बाकी है !

 ****************************

 अजब सी खामोशी हैं मेरे अंदर तेरे जाने के बाद....
मै चीखती हु, चिल्लाती हु मगर शोर नहीं होता!!

 ****************************

  मत पूछो कितनी मोहब्बत है मुझे उनसे !
बारिश की बूँद भी अगर उन्हें छू ले.
तो दिल में आग लगजाती है ....

 ****************************

 बदनसीब मैं हूँ या तू हैं, ये तो वक़्त ही बतायेगा...
बस इतना कहता हूँ, अब कभी लौट कर मत आना.

 ****************************

 जाऊँ तो कहा जाऊँ इस तंग दिल दुनिया में,
हर शख्स मजहब पूछ के आस्तीन चढ़ा लेता है...!

 ****************************

 वजह नफरतों की तलाशी जाती हैं
मोहब्बत तो बेवजह ही हो जाती हैं…!!

 ****************************

 कोशिश के बाद भी जो पूरी ना हो सकी..
तेरा नाम भी उन ख्वाइशों मैं हैं.

 ****************************

 तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे..
मैं एक शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे..!

 ****************************

 सीख जाओ वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना..
कहीं कोई थक ना जाये तुम्हें एहसास दिलाते दिलाते..

 ****************************

 एक अज़ीब सा रिश्ता है मेरे और ख्वाहिशों के दरम्यां,
वो मुझे जीने नही देती… और मै उन्हे मरने नही देता..!!

 ****************************

 तुमने समझा ही नहीं…और ना समझना चाहा,
हम चाहते ही क्या थे तुमसे… तुम्हारे सिवा

 ****************************

 रिश्ते खराब होने की एक वजह ये भी है,
कि लोग झुकना पसंद नहीं करते…!!

Post a Comment

0 Comments