Romantic Good Night Shayari For Girlfriend And Boyfriend

सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली;
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली;
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर;
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।

*************************

 किसी ने यूँ ही पुछ लिया हमसे
कि दर्द की कीमत क्या है;
हमने हँसते हुए कहा, पता नहीं
कुछ अपने मुफ्त में दे जाते हैं। 

 *************************

 ये क्या जगह है दोस्तो ये कौन सा दयार है;
हद्द-ए-निगाह तक जहाँ ग़ुबार ही ग़ुबार है।

 *************************

 रोते रहे तुम भी, रोते रहे हम भी;
कहते रहे तुम भी और कहते रहे हम भी;
ना जाने इस ज़माने को हमारे इश्क़ से क्या नाराज़गी थी;
बस समझाते रहे तुम भी और समझाते रहे हम भी।

 *************************

 वो नाराज़ हैं हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं;
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं;
दर्द की ज़ुबान होती तो बता देते शायद;
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते नहीं।



 बहुत दर्द हैं ऐ जान-ए-अदा तेरी मोहब्बत में;
कैसे कह दूँ कि तुझे वफ़ा निभानी नहीं आती।

 *************************

 बस यही सोच कर हर
तपिश में जलता आया हूँ;
धूप कितनी भी तेज़ हो
समंदर नहीं सूखा करते।

 *************************

 साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती;
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती;
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त;
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।

 *************************

 उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह,
तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ,
देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा,
ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.

 *************************

 तूने फेसले ही फासले बढाने वाले किये थे ,
वरना कोई नहीं था, तुजसे ज्यादा करीब मेरे..।

 *************************

 प्यार करो तो हमेशा मुस्कुरा के,
किसी को धोखा ना दो अपना बना के,
कर लो याद जब तक हम ज़िंदा है,
फिर ना कहना की चले गये दिल मे यादें बसा के...

 *************************

 खून से जब जला दिया एक दिया बुझा हुआ;
फिर मुझे दे दिया गया एक दिया बुझा हुआ;
महफ़िल-ए-रंग-ओ-नूर की फिर मुझे याद आ गयी;
फिर मुझे याद आ गया एक दिया बुझा हुआ।

 *************************

 ये रुके रुके से आँसू ये दबी दबी सी आहें;
यूँ ही कब तलक खुदाया ग़म-ए-ज़िंदगी निबहेँ। 

 *************************

 हुआ जब इश्क़ का एहसास उन्हें;
आकर वो पास हमारे सारा दिन रोते रहे;
हम भी निकले खुदगर्ज़ इतने यारो कि;
ओढ़ कर कफ़न, आँखें बंद करके सोते रहे।

 *************************

 क्या कुछ न किया है और क्या कुछ नहीं करते;
कुछ करते हैं ऐसा ब-खुदा कुछ नहीं करते;
अपने मर्ज़-ए-गम का हकीम और कोई है;
हम और तबीबों की दवा कुछ नहीं करते।

 *************************

 वो धागा ही था जिसने छिपकर
पूरा जीवन मोतियों को दे दिया...
और ये मोती अपनी तारीफ
पर इतराते रहे उम्र भर...

************************* 

 न कोई किसी से दूर होता है,
न कोई किसी के करीब होता है,
प्यार खुद चल कर आता है,
जब कोई किसी का नसीब होता है|

************************* 

 राज तो हमारा हर जगह पे है…।
पसंद करने वालों के दिल में ; और
नापसंद करने वालों के दिमाग में…।।

 *************************

 क़दर करलो उनकी जो तुमसे
बिना मतलब की चाहत करते हैं..
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम
और तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है..!

 *************************

 हुज़ूर एक हुक्म हम पे भी फ़रमाइये ,
आ जाइये खुद या फिर हमें बुलाइये !

 *************************

 सुना है तुम ज़िद्दी बहुत हो,
मुझे भी अपनी जिद्द बना लो !

 *************************

 सोचता हु हर कागज पे तेरी तारीफ करु,
फिर खयाल आया कहीँ पढ़ने
वाला भी तेरा दीवाना ना हो जाए

 *************************

 लोग कहते हैं किसी एक के चले
जाने से जिन्दगी अधूरी नहीं होती,
लेकिन लाखों के मिल जाने से
उस एक की कमी पूरी नहीं होती है……

 *************************

 उसकी हर एक शिकायत देती है मुहब्बत की गवाही..
अजनबी से वर्ना कौन हर बात पर तकरार करता है ?

 *************************

 ना हीरों की तमन्ना है
और ना परियों पे मरता हूँ..
वो एक “भोली” सी लडकी हे
जिसे मैं मोहब्बत करता हूँ !!

 *************************

 तू मिले या ना मिले ये तो और बात है,
मैं कोशिश भी ना करूँ, ये तो गलत बात है॥ 

************************* 

 सोचते हैं जान अपनी उसे मुफ्त ही दे दें,
इतने मासूम खरीदार से क्या लेना देना।

 *************************

 मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं;
चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए।

 *************************

 तुम जिन्दगी में आ तो
गये हो मगर ख्याल रखना,
हम ‘जान’ दे देते हैं
मगर ‘जाने’ नहीं देते !!

 *************************

तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है,
इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है,

 *************************

 मैं अपनी मोहब्बत में-
बच्चो की तरह हूँ,
जो मेरा हैं बस मेरा है
किसी और को क्यो दुँ

 *************************

 हो जा मेरी कि इतनी
मोहब्बत दूँगा तुझे,
लोग हसरत करेंगे तेरे
जैसा नसीब पाने के लिए..!!

 *************************

 करीब आओ ज़रा के तुम्हारे
बिन जीना है मुश्किल,
दिल को तुमसे नही..
तुम्हारी हर अदा से मोहब्बत है

 *************************

 सिर्फ दो ही वक़्त पर उसका साथ चाहिए,
एक तो अभी और एक हमेशा के लिये..

 *************************

 सौदा कुछ ऐसा किया है
तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों से….
या तो दोनों आते हैं ….
या कोई नहीं आता !!

 *************************

 पोथी पढ़ पढ़ जग मुआ,
पंडित भया न कोय ।
ढाई आखर प्रेम का,
पढ़े सो पंडित होय ।

 *************************

 न जाने क्या मासूमियत है
तेरे चेहरे पर… तेरे सामने आने से
ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है …!!!

 *************************

 हर कोई पूछता है, करते क्या हो तुम?
जेसे मोहब्बत कोई काम ही नहीं…

 *************************

 किस ख़त में रखकर भेजूँ,
अपने इंतजार को, बेजुबां है इश्क़,
ढूंढता है ख़ामोशी से तुझे.

 *************************

 जो नही ज़मी से कम
अजीब अपनी महोब्बत है
अजीब इसके सितम
सोचुँ तो नहीं जिन्दगी तुमसे ज्यादा
सोचुँ तो नहीं तुम जिन्दगी से कम

 *************************

 ये दोस्ती चिराग है जलाऐ रखना
ये दोस्ती खुशबु है महकाऐ रखना
हम रहें हमेशां आपके दिल में
हमेशां इतनी जगह बनाऐ रखना

 *************************

 और कभी तुझे ना भूलने का इरादा करते हैं
मेरा रब मेरी नहीं किसी
और की तो सुन ही लेगा ना
ये सोच कर हर इक से
तेरे लिए दुआ करवाया करते हैं

 *************************

 हर एक मोड पे हम गिरते थे
किसी ने भी ना हमको उठाया था
तब तूने ही सनम एक उमीद
का दिया जलाया था
अपने हर एक गम को छुपाकर
मुझे जीना सिखाया था

 *************************

 नहीं बन जाता कोई अपना
यूँ ही दिल लगाने से
करनी पड़ती है दुआ
सच्ता दोस्त पाने के लिए रब से
रखना संभालकर ये याराना अपना
टूट ना जाए ये किसी के बहकाने से

 *************************

 दोस्ती नज़रों से हो तो उसे कुदरत कहते हैं
सितारों से हो तो उसे जन्नत रहते है
हुसन से हो तो उसे महोब्बत कहते है
और दोस्ती आप जैसे दोस्त से
हो तो उसे किस्मत कहते है

 *************************

 दिल में तुम्हारे अपनी कमी छोड जाऐंगे
आँखों में इंतज़ार की लकीर छोड जाऐंगे
याद रखना मुझे ढूँढते फिरोगे एक दिन
जिन्दगी में देस्ती की कहानी छोड जाऐंगे.

 *************************

 दिल टूटना सजा है महोब्बत की
दिल जोडना अदा है दोस्ती की
माँगे जो कुर्बानी वो है महोब्बत
जो बिन माँगे हो जाऐ कुर्बान
वो है दोस्ती हमारी

 *************************

 क्युँ मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त
क्युँ गम को बांट लेते है दोस्त
ना रिश्ता खून का ना रिवाज से बंधा
फिर भी जिन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त

 *************************

 करेगा ज़माना भी कद्र हमारी एक दिन,
बस हमारी ये वफ़ा करने की लत मिट जाये...

Post a Comment

0 Comments