Love Shayari, Best Love Shayari, True Love Shayari 2019

दिल पे मुश्किल है बहुत दिल की कहानी लिखना
जैसे बहते हुए पानी पे हो पानी लिखना !

*********************

 किसी के दिल में क्या छुपा है
ये बस खुदा ही जानता है,
दिल अगर बेनकाब होता तो
सोचो कितना फसाद होता..

 *********************

  चाहत देस से आनेवाले ये
तो बता के सनम कैसे हैं ..?
दिलवालों की क्या हालत हैं,
यार के मौसम कैसे हैं ...

 *********************

 क़ानून तो सिर्फ बुरे लोगों के लिए होता है....! ..
अच्छे लोग तो शर्म से ही मर जाते हैं...!!


 लिखना तो था के हम खुश है उसके बिना
मगर आसू निकल पड़े कलम उठाने से पहले

 *********************

 वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए!
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए!
कभी तो समझो मेरी खामोशी को!
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें!

 *********************

 दुरिया खलती है मुझे....
इतने करीब रिश्तों में...!!
कि आ भी जाओ मेरे पास. ..
यु ना मोहब्बत दो मुझे किश्तो मे..!!

 *********************

 बस यही आदत उसकी मुझे
अच्छी लगाती है जब .युही
नज़रें झुका कर वो कहती है
तुम्हे कोई हक नही .

 *********************

 तेरी मज़बूरी का अंदाजा है मुझे !
पर मेरी बेबसी पर मेरा जोर नही 

 *********************

 जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है .
रात होती है तो आँखों में उतर आता है ...!
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं .
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है..!!!

 *********************

 इतनी हिम्मत तो नहीं किसी
को हाल –ये –दिल सुना सके ,
बस जिसके लिये उदास है बो
महसूस करे तो काफी है ...!!!

 *********************

 दो आईने को देखकर देखा किया तुझे
तेरी आंखों में डूबकर देखा किया तुझे 
सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह
खामोशियों से बोलकर देखा किया तुझे
लहरें तो आके रूक गईं साहिल को चूमकर
आंसू पलक में रोककर देखा किया तुझे
तेरी उदासियों में तस्वीर है मेरी
ये सोचके बस एकटक देखा किया तुझे

 *********************

 एक सुकून की तलाश मे
जाने कितनी बेचैनियां पाल ली,
और लोग कहते है हम बडे
हो गए हमने जिंदगी संभाल ली.

 *********************

 टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता
इश्क़ में मरीज को आराम नहीं आता
ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता
के टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता …

 *********************

 दर्द की बारिशों में हम
अकेले ही थे,ऐ*दोस्त..!!!
जब बरसी ख़ुशियाँ न
जाने भीड़ कहां से आ गयी.!!!

 *********************

 एक ख़ुशी की चाह में हर ख़ुशी से दूर हुए हम
किसी से कुछ कह भी ना सके इतने मज़बूर हुए हम
ना आई उन्हें निभानी वफ़ा इस दौर-ए-इश्क़ में
और ज़माने की नज़र में बेवफ़ा के नाम से मशहूर हुए हम।

 *********************

 उनकी मोहब्बत के अभी निशान बाकी है
नाम लब पर है और जान बाकी है
क्या हुआ अगर देख कर मुँह फेर लेते हैं
तसल्ली है कि शक्ल की पहचान बाकी है।

 *********************

 वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि
जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं
कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने
फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।

 *********************

  कभी करीब तो कभी जुदा था तू
जाने किस-किस से ख़फ़ा है तू
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीन था
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।

 *********************

 ज़िंदगी से बस यही एक गिला है
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है।

 *********************

 वफाओं ​की बातें की हमने जफ़ाओं के सामने​
​ ​ ले चले हम चिराग़ हवाओं के सामने​
​ ​ उठे हैं जब भी हाथ बदली हैं क़िस्मतें​
​ मजबूर है ​खुदा भी दुआओं के सामने​।

 *********************

 ऐसा नहीं कि आप हमें याद नहीं आते
माना कि जहाँ के सब रिश्ते निभाये नहीं जाते
पर जो बस जाते हैं दिल में वो भुलाए नहीं जाते
बेवफाओं से हर तरह के रिश्ते निभाये नहीं जाते।

 *********************

 जनाजा मेरा उठ रहा था
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी
और कितनी देर है दफनाने में!

 *********************

 हर धड़कन में एक राज़ होता है
बात को बताने का एक अंदाज़ होता है
जब तक ठोकर न लगे बेवाफ़ाई की
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।

 *********************

 अच्छा हुआ कि तुमने हमें तोड़ कर रख दिया,
घमण्ड भी हमें बहुत था तेरे होने का

 *********************

 तुमको समझाता हूँ इसलिए ए दोस्त
क्योंकि सबको ही आज़मा चुका हूँ मैं
कहीं तुमको भी पछताना ना पड़े यहाँ
कई हसीनों से धोखा खा चुका हूँ मैं।

 *********************

 खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा
उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा
घबराहट होती है मोहब्बत की नाव में बैठ कर
गर मझदार ये तो किनारा क्या होगा।

 *********************

  एक तेरी खातिर परेशाँ हूँ मैं
टूटे दिलों की जुबाँ हूँ मैं
तूने ठुकराया जिसको अपनाकर
उसी दीवाने का गुमां हूँ मैं।

 *********************

 जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ
मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं
दुःख ये नहीं कि वो दरवाजा बंद कर देते है
खुशी ये है कि वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं।

 *********************

 यह ना थी हमारी क़िस्मत
कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते
यही इंतज़ार होता
तेरे वादे पर जाएँ हम
तो यह जान झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर ना जाते
अगर ऐतबार होता।
 *********************


 भुला कर हमें क्या वो खुश रह पाएंगे,
साथ में नही तो मेरे जाने के बाद मुस्कुरायेंगे,
दुआ है खुदा से की उन्हें कभी दर्द न देना,
हम तो सह गए पर वो टूट जायेंगे।

 *********************

 जब कभी तेरा नाम लेते हैं,
दिल से हम इन्तेकाम लेते हैं,
मेरी बरबादियों के अफसाने
मेरे यारों का नाम लेते हैं।

 *********************

 दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम के आंसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम खुद को न जलाते तो और क्या करते!

 *********************

 चाहत वो नहीं जो जान देती है,
चाहत वो नहीं जो मुस्कान देती है,
ऐ दोस्त चाहत तो वो है,
जो पानी में गिरा आंसू पहचान लेती हैं.

 *********************

 आप से दूर हो कर हम जायेंगे कहा,
आप जैसा दोस्त हम पाएंगे कहा,
दिल को कैसे भी संभाल लेंगे,
पर आँखों के आंसू हम छुपायेंगे कहा.

 *********************

 बहुत थे मेरे भी इस
दुनिया मेँ अपने
फिर हुआ इश्क
और हम लावारिस हो गए.!!


 *********************

 तेरे ख्वाब का भी शोख है
तेरी यादो में भी है
मज़ा समज में नहीं आता
तुजे याद करे या सो जाये.

 *********************

 जरा सी बात पे भिगो देते हो पलकें.
तुम्हे तो अपने दिल का हाल बताना भी मुश्किल है.

 *********************

 मर्जी से जीने की बस ख्वाहिश की थी मैंने,
और वो कहते हैं कि खुदगर्ज़ बन गए हो तुम.

 *********************

 क्या इतने दूर निकल आये हैं हम,
कि तेरे ख्यालों में भी नही आते ??

 *********************

 कुछ बातों के मतलब हैं और कुछ मतलब की बातें,
जब से फर्क समझा, जिंदगी आसान हो गई.

 *********************

 ज़िन्दगी तुझसे हर कदम पर समझौता क्यों करूँ,
शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं.

 *********************

 मेरे खवाबो मे आना आपका कसूर था,
आपसे दिल लगाना हमारा कसूर था,
आप आए थे जिन्दगी मे पल दो पल के लिए,
आपको जिन्दगी समझ लेना हमारा कसूर था..

 *********************

 अपनी खुशीयां लुटा कर उसपर कुर्बान हो जाऊ,
काश कुछ दिन उसके शहर का मेहमान हो जाऊ,
वो अपना नायाब दिल मुझको देदे, और फिर वापस मांगे,
मैं मुकर जाऊ और बेईमान हो जाऊ..

 *********************

 दुनिया में किसी से कभी प्यार मत करना,
अपने अनमोल आँसू इस तरह बेकार मत करना,
कांटे तो फिर भी दामन थाम लेते हैं,
फूलों पर कभी इस तरह तुम ऐतबार मत करना..

 *********************

 कोई हुनर, कोई राज,
कोई रविश, कोई तो तरीका बताओ
दिल टूटे भी ना, साथ छूटे भी ना,
कोई रुठे भी ना और जिदंगी गुजर जाए.

 *********************

 तेरी दोस्ती ने दिया सकूं इतना,
की तेरे बाद कोई अच्छा न लगे,
तुझे करनी है बेवफ़ाई तो इस अदा से कर,
कि तेरे बाद कोई भी बेवफ़ा न लगे





Post a Comment

0 Comments