Love Shayari, Best Love Shayari, True Love Shayari

रास्ता ऐसा भी दुशवार न था,
बस उसको हमारी चाहत पे ऐतबार न था,
वो चल न सकी हमारे साथ वरना,
हमे तो जान देने से भी इनकार न था.

 हम भूल जाये ऐसी दिल की हसरत कहाँ,
वो याद करे हमे इतनी उसे फुर्सत कहाँ,
जिनके चारो तरफ हो अपनों का साथ,
उन्हें हमारी जरुरत कहाँ.

 जिसने भी की मुहब्बत, रोया जरूर होगा।
वो याद में किसी के खोया जरूर होगा।
दिवार के सहारे, घुटनों में सिर छिपाकर ,
वो ख्याल में किसी के खोया जरुर होगा।
आँखों में आंसुओ के, आने के बाद उसने,
धीरे से उसको उसने, पोंछा जरुर होगा।
जिसने भी की मुहब्बत, रोया जरूर होगा। 



 पढ़ने वालों की कमी हो गयी है आज इस ज़माने में,
नहीं तो गिरता हुआ एक-एक आँसू पूरी किताब है!!
सो जा ऐ दिल कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं…।

 कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा,
मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं ।

 हम तो इन्तेजार करते करते
अब मर जायेंगे...
कोइ तो आये एेसा जिन्दगी में
जो बेवफा ना हो
 
 इस उलझन ने चैन से जीने न दिया!
थक के जबसितारों से पनाह ली!
नींद आई तो तेरी यादने सोने न दिया!

 भींग गई पलके फ़िर ये सोचकर...
तु मिलने आ तो रहा हैं,,,,
मगर फ़िर से बिछडने के लिये!

 काश मेरा घर तेरे घर के करीब होता ......,
बात करना न सही , तुझे देखना तो नसीब होता

 इस से अच्छा हम चाँद से मुहब्बत कर लेते...
लाख दूर सही लेकिन दिखाई तो देता है.

 कहीं तुम भी न बन जाना
किरदार किसी किताब का
लोग बड़े शौक से पड़ते है
कहानिया बेवफाओं की

 हमें आदत नही इंतज़ार की ,पर क्या करें
सुना है तेरे दर पर लम्बी कतारें है

 बहुत दर्द हैं ऐ जान-ए-अदा तेरी मोहब्बत में;
कैसे कह दूँ कि तुझे वफ़ा निभानी नहीं आती।

 बस यही सोच कर हर
तपिश में जलता आया हूँ;
धूप कितनी भी तेज़ हो
समंदर नहीं सूखा करते।

 साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती;
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती;
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त;
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।

 इतनी बेचैनी से तुमको किसकी तलाश है,
वो कौन है जो तेरी आंखों की प्यास है,
जबसे मिला हूं तुमसे यही सोचता हूं मैं,
क्यों मेरे दिल को हो रहा तेरा एहसास है,
जिंदगी के इस मोड़ पे तुम आके यूं मिले,
जैसे कि कोई मंजिल मेरे इतने पास है,
एक नजर की आस में तकता हूं मैं तुझे,
अब देख तेरे खातिर एक आशिक उदास है|

 उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह,
तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ,
देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा,
ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.

 तूने फेसले ही फासले बढाने वाले किये थे ,
वरना कोई नहीं था, तुजसे ज्यादा करीब मेरे..।

 यूँ तो रातों को नींद नही आती,
पर रातों को सो कर
भी जाग जाना इश्क़ है।

 तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है,
इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है,

 मैं अपनी मोहब्बत में-
बच्चो की तरह हूँ,
जो मेरा हैं बस मेरा है
किसी और को क्यो दुँ

 हो जा मेरी कि इतनी
मोहब्बत दूँगा तुझे,
लोग हसरत करेंगे तेरे
जैसा नसीब पाने के लिए..!!

 करीब आओ ज़रा के तुम्हारे
बिन जीना है मुश्किल,
दिल को तुमसे नही..
तुम्हारी हर अदा से मोहब्बत है

 सिर्फ दो ही वक़्त पर उसका साथ चाहिए,
एक तो अभी और एक हमेशा के लिये..

 गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है.

 मुझे गुमान था कि चाहा बहुत सबने मुझे;
मैं अज़ीज़ सबको था मगर ज़रूरत के लिए।

 तु खामोश क्यू है ये तो मालुम नही मगर,
दिल डूब सा जाता है जब तु खामोश होता है....

 दोस्तों जानता हूँ मशहूर बहुत हे
मेरे अल्फाज और स्टेट्स ...
मगर एक पगली ऐसी भी हे
जो मुझसे मनाई नही जाती

 ये ज़रूरी तो नही ना कि..
जिनके दिल में प्यार हो....
उनकी किस्मत में भी प्यार हो.

 अपनी आयु से अधिक
अपनी छवि का ध्यान रखें,
क्योंकि छवि की आयु
आपकी आयु से अधिक है ।।


 धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल
अभी तो पलकें झुकाई है
मुस्कुराना अभी बाकी है उनका.

 मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका,
चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना….!

 इतना भी गुमान न कर
आपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा
चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

 सोने के जेवर ओर हमारे तेवर
लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे.

 ना करते तूम से कोई वादा तो
आज इंतजार नही करना पड़ता ,
वादा जो निभाना है तो इंतजार ही करना पड़ेगा

 सब कुछ है लेकिन तेरे अलफाज नही ,
बिन तेरे अलफाज के कोई साज नही .

  कुछ चेहरे भुलाए नहीं जाते
कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते
मुलाक़ात हो न हो अय मेरे यार
प्यार के चिराग कभी बुझाए नहीं जाते।

 कुछ सोचूं तो तेरा ख्याल आ जाता है
कुछ बोलूं तो तेरा नाम आ जाता है
कब तलक बयाँ करूँ दिल की बात
हर सांस में अब तेरा एहसास आ जाता है।

 हर बार दिल से ये पैगाम आए
ज़ुबाँ खोलूं तो तेरा ही नाम आए
तुम ही क्यूँ भाए दिल को क्या मालूम
जब नज़रों के सामने हसीन तमाम आए|

 ये दिल न जाने क्या कर बैठा
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा
इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता
और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा।

किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही
गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या
यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही 

 तक़दीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई
आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई
मोहब्बत करके क्या पाया मैंने
वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई

 मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं

तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम
बस यही एक वादा निभा पायेगें हम
मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन
तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम

 प्यार कमजोर दिल से किया नहीं जा सकता
ज़हर दुश्मन से लिया नहीं जा सकता
दिल में बसी है उल्फत जिस प्यार की
उस के बिना जिया नहीं जा सकता

 तपिश से बच के घटाओं में बैठ जाते हैं
गए हुए कि सदाओं में बैठ जाते हैं
हम इर्द-गिर्द के मौसम से घबरायें
तेरे ख्यालों की छाओं में बैठ जाते हैं।

 संगमरमर के महल में तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा
मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा जो तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।

 तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।

 तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है,
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है,
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें,
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।

 किसी की यादो को रोक पाना मुश्किल है
रोते हुए दिल को मनाना मुश्किल है
ये दिल अपनो को कितना याद करता है
ये कुछ लफ्जो में बयाँ कर पाना मुश्किल है


 अब तो बस तेरी यादों का सहारा है,
कोई मंजिल नहीं तू ही एक किनारा है,
हो सके तो मेरे खयालो मैं आना मेरे हमदम,
मरने के बाद बस तू ही एक सहारा है..

 तेरी यादं का चंदन जब से मला हे तन पे
मेरी आस्तीन मे कितने साप पल गये
तुझे नज़र भर के देखना मेरा गुनहां था
इश्क की आँच से मेरे सारे हाथ जल गये

 मेरी यादें मेरा चेहरा मेरी बातें रुलायेंगी,
हिज़्र के दौर में गुज़री मुलाकातें रुलायेंगी,
दिनों को तो चलो तुम काट भी लोगे फसानों मे,
जहाँ तन्हा मिलोगे तुम तुम्हे रातें रुलायेंगी|

 हर सागर के दो किनारे होते है,
कुछ लोग जान से भी प्यारे होते है,
ये ज़रूरी नहीं हर कोई पास हो,
क्योंकी जिंदगी में.. यादों के भी सहारे होते है

 अपने घर की खिड़की से मैं आसमान को देखूँगा
जिस पर तेरा नाम लिखा है उस तारे को ढूँढूँगा
तुम भी हर शब दिया जला कर पलकों की दहलीज़ पर रखना
मैं भी रोज़ एक ख़्वाब तुम्हारे शहर की जानिब भेजूँगा।

 सीने में दिल तो हर एक के होता है
लेकिन हर एक दिल में प्यार नहीं होता
प्यार करने के लिए तो दिल होता है
दिल में छुपाने के लिए प्यार नहीं होता।

 दूरियों की ना परवाह कीजिये
दिल जब भी पुकारे बुला लीजिये
कहीं दूर नहीं हैं हम आपसे
बस अपनी पलकों को आँखों से मिला लीजिये।

  कैसे कहूँ कि अपना बना लो मुझे
बाहों में अपनी समा लो मुझे
बिन तुम्हारे एक पल भी कटता नहीं
आ कर एक बार मुझ से चुरा लो मुझे।


 कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे
कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा।

 मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही
अब रातों को जागना अच्छा लगता है
मुझे नहीं मालूम वो मेरी किस्मत में है या नहीं
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा लगता है।

 ये डूबने वाले का ही होता हे कोई फन
आँखों में किसी के भी समंदर नहीं होता

 तुम्हारे पास नहीं तो फिर किस के पास है?
वो टुटा हुआ दिल आखिर गया कहाँ

 उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी
उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी

 खींच लेती है मुझे उसकी मोहब्बत
वरना मै बहुत बार मिला हूँ आखरी बार उससे

 कभी हँसता है प्यार
कभी रुलाता है प्यार
हर पल की याद दिलाता है यह प्यार
चाहो या न चाहो पर आपके
होने का एहसास दिलाता है ये प्यार
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए

 फूल खिलते रहे जिंदगी की राह में
हंसी चमकती रहे आपकी निगाह में
कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बाहर आपको
दिल देता है यही दुआ बार-बार आपको
वेलेंटाइन डे की शुभकामनाए

Post a Comment

0 Comments